लाल किले जैसी देश की 1000 इमारतों को निजी क्षेत्र को सौंपने को तैयार, यह है सरकार की योजना

देश में लाल किले जैसी 1000 इमारतों को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी की जा रही है. सबसे पहले, एएसआई ने 15 अगस्त तक निजी खिलाड़ियों को 500 पन्ने सौंपने की योजना बनाई है। सूत्रों की मानें तो निजी घराने इन विरासत स्थलों के रखरखाव, साफ-सफाई, प्रोजेक्ट मैपिंग की जिम्मेदारी लेंगे। निजी घराने इन धरोहर स्थलों का अधिग्रहण कर अपने सीएसआर फंड के तहत एकमुश्त निवेश करेंगे।

कुछ साल पहले केंद्र सरकार ने स्मारक मित्रा के तहत एएसआई की विरासत को निजी हाथों में सौंपने का फैसला किया था, जिसके तहत दिल्ली का लाल किला डालमिया ग्रुप को दे दिया गया था। बेहतर अनुभव के बाद केंद्र सरकार ने देश में एएसआई की 1000 संरक्षित इमारतों को निजी हाथों में सौंपने का फैसला किया है। स्मारक मित्र की जिम्मेदारी अब तक पर्यटन मंत्रालय के पास थी, लेकिन हाल ही में इसे संस्कृति मंत्रालय में स्थानांतरित कर दिया गया।

केंद्र सरकार की स्मारक मित्र योजना का उद्देश्य एएसआई की विरासत को उचित तरीके से संरक्षित करना है। उनकी ब्रांडिंग ठीक से हो और देशी-विदेशी पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं मिलें। इसके साथ ही संस्कृति मंत्रालय ऐसे स्मारकों में संग्रहालय स्थापित करने की भी योजना बना रहा है जो जीर्ण-शीर्ण अवस्था में हैं या कुछ अवशेष हैं, ताकि पर्यटक उन स्थानों के इतिहास को बेहतर ढंग से समझ सकें।

इतना ही नहीं जी-20 के तहत संस्कृति मंत्रालय की योजना भारत की 5 हजार साल पुरानी संस्कृति और विरासत को दुनिया को दिखाने की है। यही वजह है कि अलग-अलग विरासत स्थलों पर अलग-अलग जी20 इवेंट आयोजित किए जाएंगे। इस साल भारत जी-20 की मेजबानी कर रहा है और ऐसे में भारत पूरी तरह से अपने मेहमानों को भारत भ्रमण कराने पर फोकस कर रहा है.

Check Also

MNS Vs Aaditya Thackeray : मनसे विधायक राजू पाटिल ने आदित्य ठाकरे पर निशाना साधा।

कल्याण : नासिक दौरे के दौरान आदित्य ठाकरे ने भाजपा शिंदे समूह के साथ मनसे …