Post Office MIS: एकमुश्त जमा करें एक लाख रुपये, हर महीने 550 रुपये की होगी गारंटीड इनकम

Post Office Monthly Income Scheme: पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्‍कीम (Post Office MIS) एक सरकारी स्मॉल सेविंग्स स्कीम है, जो निवेशकों को हर महीने एक तय रकम कमाई का मौका देती है. बाजार के उतार-चढ़ाव का इस निवेश पर कोई असर नहीं होता है. डाकघर की स्कीम होने के नाते इसमें आपका पैसा सुरक्षित रहता है. मंथली इनकम स्‍कीम अकाउंट में सिर्फ एक बार निवेश करना होता है. यह स्कीम 5 साल की है, जिसे आगे भी 5-5 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है. 5 साल बाद से आपको गारंटीड मंथली इनकम होने लगती है.

कैसे तय होती है मंथली अकाउंट में आने वाली रकम?
पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में 6.6 फीसदी का सालाना ब्याज मिलता है. इसका मैच्योरिटी पीरियड 5 साल का है यानी 5 साल बाद आपको गारंटीड मंथली इनकम होने लगेगी. अगर आप एकमुश्त एक लाख रुपये जमा कर देते हैं तो 5 साल बाद 6.6 फीसदी सालाना ब्याज दर के हिसाब से इस रकम पर कुल ब्याज 6600 रुपये होगा. इस रकम को साल के 12 महीनों में बांट दिया जाएगा. इस तरह हर महीने का ब्याज करीब 550 रुपये होगा. इस तरह से हर महीने आपको 550 रुपये की कमाई हो सकती है.

 

सिर्फ 1000 रुपये में खुल जाएगा अकाउंट
पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम के तहत सिर्फ 1000 रुपये में अकाउंट खोला जा सकता है. 18 साल की उम्र पूरी कर चुका कोई भी व्यक्ति अकाउंट खुलवा सकता है. पोस्ट ऑफिस एमआईएस में सिंगल और ज्वॉइंट दोनों तरह के अकाउंट खोलने की सुविधा है. एक व्यक्ति एक साथ ज्यादा से ज्यादा 3 अकाउंट होल्डर के साथ अकाउंट खुलवा सकता है.

अधिकतम कितना कर सकते हैं निवेश
पोस्ट ऑफिस एमआईएस में सिंगल अकाउंट के जरिए अधिकतम 4.5 लाख रुपये निवेश किया जा सकता है जबकि ज्वॉइंट अकाउंट के जरिए अधिकतम 9 लाख रुपये निवेश कर सकते हैं.

 

क्या है स्कीम की शर्तें
इस अकाउंट को खुलवाने की एक शर्त ये है कि आप 1 साल से पहले अपनी जमा राशि निकाल नहीं सकते हैं. वहीं अगर अपनी मैच्योरिटी पीरियड पूरी होने से पहले यानी 3 से 5 साल के बीच में निकालते हैं तो मूलधन में से 1 फीसदी की राशि काटकर वापस कर दी जाएगी. वहीं मैच्योरिटी पीरियड पूरा होने पर पैसे निकालते हैं तो स्कीम के सारे फायदे मिलेंगे.

Check Also

यूलिप में निवेश? तो यह खबर आपके लिए है, रिडीम करने पर लगेगा कैपिटल गेन टैक्स, जानिए अभी

यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (यूलिप) से अधिक प्रीमियम के साथ प्राप्त राशि को कर योग्य …