हवा में प्रदूषण : फिर बढ़ा प्रदूषण, कई शहरों की हवा हो गई जहरीली, इन बीमारियों का मंडरा रहा खतरा

1ab9e165c88acc0965b1ab481a9fdac71663819385506498_original

Air Quality Index : स्वस्थ रहने के लिए लोग सुबह जल्दी टहलने जाते हैं, लेकिन कई शहरों की हवा अब जहरीली होती जा रही है. राजधानी दिल्ली में एक बार फिर प्रदूषण का खतरा मंडरा रहा है. देश की राजधानी की हवा में संक्रमण का स्तर बढ़ता ही जा रहा है. जिससे लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। दिल्ली के कुछ इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 400 को पार कर गया है। आपको बता दें कि हर साल सितंबर-अक्टूबर का महीना आते ही दिल्ली में प्रदूषण का खतरा बढ़ने लगता है।

बढ़ते प्रदूषण से बढ़ा बीमारियों का खतरा

जैसे-जैसे एक्यूआई खतरे के निशान के करीब पहुंचता है, लोगों को सांस लेने में तकलीफ होने लगती है और आंखों में जलन के साथ संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है। मौसम में बदलाव के साथ तापमान में गिरावट से दिल्ली समेत देश के कई शहरों में प्रदूषण का स्तर बढ़ गया है. वायु प्रदूषण का मुख्य कारण फैक्ट्री से निकलने वाला धुआं है।

वायु प्रदूषण खतरनाक क्यों है?

वायु प्रदूषण कितना खतरनाक है अगर आसान शब्दों में समझें तो इससे दुनियाभर में 70 लाख लोगों की मौत हो जाती है। यानी प्रदूषण से होने वाली बीमारियां कितनी खतरनाक हैं। इसे इन आंकड़ों से समझा जा सकता है। वहीं दिल्ली के प्रदूषण की बात करें तो हर बार दुनिया के 10 सबसे प्रदूषित शहरों में दिल्ली का नाम आता है. आंकड़ों के मुताबिक पूरे देश में प्रदूषण के कारण हर साल लाखों लोगों की मौत होती है।

आप इस तरह की स्थिति को समझ सकते हैं

 

0 से 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 को ‘मध्यम’, 201 से 300 को ‘खराब’, 301 से 400 को ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 को ‘गंभीर’ माना जाता है। हाल ही में दिल्ली का आनंद विहार इलाका क्रिटिकल कैटेगरी में पाया गया है। इससे आप दिल्ली के वायु प्रदूषण का अंदाजा लगा सकते हैं।

बढ़ रही हैं ये बीमारियां

बढ़ते प्रदूषण के कारण कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं बढ़ने लगती हैं। प्रदूषण से अस्थमा और कई अन्य फेफड़ों की बीमारियां हो सकती हैं। प्रदूषण से न केवल अस्थमा, बल्कि हृदय रोग, त्वचा की एलर्जी और आंखों की बीमारियां भी हो सकती हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में हर साल 70 लाख से ज्यादा लोगों की मौत प्रदूषण के कारण होती है। प्रदूषण से स्ट्रोक, फेफड़े का कैंसर, हृदय रोग और त्वचा संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। वायु प्रदूषण और बढ़ते तापमान से हृदय रोगों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में जरूरी है कि प्रदूषण से बचने के लिए आप मास्क पहनकर ही अपने घरों से बाहर निकलें।

Check Also

children_0

स्वास्थ्य / अपने बच्चों की खाने की आदतों में सुधार करें

एक समय के बाद माता-पिता बच्चों की इस आदत को ठीक नहीं कर पाते हैं। यही …