पुलिस 3 दिन से कर रही थी शव की तलाश, अचानक जिंदा सामने आया शख्स, जानें पूरा मामला…

छपरा. बिहार के छपरा से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. यहां पुलिस के हत्थे एक ऐसा युवक चढ़ा है, जिसने खुद के मौत की साजिश रची थी. पुलिस पिछले कुछ दिनों से युवक के शव की तलाश करने में जुटी हुई थी. मशरक थाना क्षेत्र के अरना पंचायत के बरवाघाट बलुआ टोला गांव मे तीन दिन पूर्व प्रेम प्रसंग में हत्याकांड की प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज कराई गई थी. हत्या कर शव को गायब करने का आरोप लगाया गया था. मामले में मढ़ौरा डीएसपी इंद्रजीत बैठा ने बताया कि अपने साथियों और प्रेमिका के संग मिलकर अपनी हत्या की साजिश रचने वाला प्रेमी 22 वर्षीय मुन्ना साह को डीएसपी मढ़ौरा के नेतृत्व में मशरक प्रभारी थानाध्यक्ष राजेश कुमार रंजन और दरियापुर थानाध्यक्ष रत्नेश कुमार वर्मा ने जिंदा ढूंढ निकाला है.

कड़ाके की ठंड में तीन दिन से पुलिस ने परिजनों के कहने पर मशरक के सीमावर्ती थाना के अलावा सीवान के बसंतपुर एवं गोपालगंज के बैकुंठपुर थाना क्षेत्र के गांव चवर और नदी के किनारे मृत समझ युवक के शव की तलाश कर रही थी. सारण पुलिस कप्तान संतोष कुमार के निर्देश पर पुलिस ने मोबाइल ट्रैक किया फिर दरियापुर थानाध्यक्ष रत्नेश कुमार वर्मा ने युवक को दबोच लिया. डीएसपी मढौरा इंद्रजीत बैठा एवं प्रभारी थानाध्यक्ष मशरक राजेश कुमार रंजन ने युवक को दरियापुर से मशरक लाकर पूछताछ शुरू की.

थाना में रखे गए प्रेमिका के साथ परिजनों के चेहरे पर चमक दिखी. मामलेे में पहले से हिरासत में एक शिक्षिका सहित पांच सभी शुरू से ही अपने को निर्दोष बता रहे थे. लेकिन पुलिस की हिरासत में मौजूद प्रेमिका इन लोगों पर ही लगातार अपने प्रेमी के साथ मारपीट करने का आरोप लगा रही थी.

सूत्रों की माने तो युवक ने अपने दोस्तों संग मिलकर चांदबरवा गांव निवासी चार चक्का कार सवार को किराए पर लेकर ब्लड बैंक से खून लाकर जहां तहां खून गिरा घटना को हत्या का रंग दिया. हालांकि इसका खुलासा फॉरेंसिक टीम के जांच रिपोर्ट के बाद ही हो पाएगा. युवक को बरामद करने के बाद पुलिस ने राहत की सांस ली है.

Check Also

बेगूसराय में सात जून से शुरू होगा ग्रीष्मकालीन रंग कार्यशाला ”रंग उमंग”

बेगूसराय, 26 मई (हि.स.)। राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की जन्मभूमि बेगूसराय उद्योग और साहित्य ही …