हस्तरेखा शास्त्र: हथेली पर ये रेखाएं अशुभ मानी जाती हैं; जीवन में केवल समस्याएं होंगी

मुंबई: हस्तरेखा ज्योतिष की एक शाखा है। यह हथेली पर बनी रेखाओं और चिन्हों को समझकर व्यक्ति के जीवन के बारे में जानकारी प्रदान करता है। हस्तरेखा शास्त्र में उसके भविष्य या जीवन का अंदाजा उसके हाथों की रेखाओं और प्रतीकों को देखकर ही लगाया जा सकता है। 

जीवन में किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कर्म का प्रभाव सबसे महत्वपूर्ण होता है। हस्तरेखा शास्त्र में आपके हाथों की रेखाओं को देखकर जीवन के शुभ और अशुभ प्रभावों की व्याख्या की जाती है। ज्योतिष शास्त्र में कुछ बहुत ही शुभ रेखाएं होती हैं, लेकिन कुछ रेखाएं ऐसी होती हैं जो आपके जीवन में एक के बाद एक परेशानी खड़ी करती रहती हैं। 

हस्तरेखा शास्त्र में कुछ ऐसी रेखाओं और चिन्हों की सूची दी गई है जिन्हें दुर्भाग्य का कारण माना जाता है। तो आइए जानें कि रेखाएं और प्रतीक क्या हैं।

 

जीवन रेखा को प्रतिच्छेद करती रेखाएं

यदि किसी की हथेली में कई छोटी रेखाएं जीवन रेखा को काटती हैं, तो उन्हें शुभ नहीं माना जाता है। इन रेखाओं के संदर्भ में कहा जाता है कि जिस स्थान पर ये रेखाएं जीवन रेखा को काटती हैं, उसी उम्र में व्यक्ति को बीमारी और दुर्घटना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। 

द्वीप प्रतीक

यदि किसी व्यक्ति की हथेली में पर्वत या द्वीप हो तो यह शुभ नहीं माना जाता है। लेकिन पहाड़ पर बनी हर रेखा और द्वीप का एक अलग अर्थ होता है। द्वीप जैसे चिह्न वाली रेखा या पर्वत का प्रभाव कमजोर होता है। यह आपके जीवन में धन, स्वास्थ्य, प्रतिष्ठा आदि से संबंधित समस्याओं का कारण बन सकता है।

 

अनामिका पर क्षैतिज रेखाएं

यदि किसी व्यक्ति की अनामिका पर बहुत सी क्षैतिज रेखाएं हों तो यह अपशकुन का संकेत माना जाता है। इससे व्यक्ति का मान-सम्मान और प्रतिष्ठा खराब हो सकती है। साथ ही अगर किसी व्यक्ति के हाथ पर काले धब्बे हों तो यह शुभ संकेत नहीं माना जाता है।

Check Also

राधा कृष्ण फोटो: क्या आपके घर में भी है राधा-कृष्ण की तस्वीर? जानिए किस दिशा में मिलेगा लाभ

राधा कृष्ण फोटो: वास्तुशास्त्र में घर में रखी सभी चीजों के शुभ और अशुभ स्थानों का …