राष्ट्रीय ध्वज से हमारा व्यक्तिगत सम्बंध स्थापित होता है : प्रो. हरेराम त्रिपाठी

वाराणसी,13 अगस्त (हि.स.)। आजादी के अमृत महोत्सव की श्रृंखला में हर घर तिरंगा अभियान एवं प्रभात फेरी अभियान शनिवार से शुरू हो गया है। सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय परिसर स्थित स्वतंत्रता सेनानी चन्द्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर कुलपति प्रो.हरेराम त्रिपाठी के नेतृत्व में लहुराबीर स्थित आजाद पार्क तक तिरंगा यात्रा निकाली गईं।

तिरंगा झंडे के साथ यात्रा में शामिल एनएसएस एवं एनसीसी के कैडेट वंदे मातरम और भारत माता की जय का गगनभेदी उद्घोष कर राह में लोगों को अपने घरों पर तिरंगा फहराने की अपील भी करते रहे। इस दौरान कुलपति प्रो. त्रिपाठी ने कहा कि स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष में राष्ट्रीय ध्वज को सामूहिक रूप से घर पर लगाना न केवल तिरंगे के साथ हमारा निजी संबंध स्थापित करता है। बल्कि यह राष्ट्र.निर्माण के प्रति हम सबकी प्रतिबद्धता का प्रतीक भी बन जाता है। इस पहल के पीछे का विचार लोगों के दिलों में देशभक्ति.राष्ट्र भक्ति की भावना का आह्वान करना और अपने राष्ट्रीय ध्वज के बारे में जागरूकता को प्रोत्साहित करना है।

कुलपति प्रो त्रिपाठी ने कहा कि भारतीय तिरंगे के साथ जब हम चलते हैं तो हमारा विचार, व्यक्तित्व स्वतः राष्ट्रीयता के गौरव योग से जुड़ जाता है। एनएसएस के समन्वयक डॉ दिनेश गर्ग ने कहा कि स्वंयसेवक का तात्पर्य है की स्व सेवा भावना से जन चिन्तन करते हुये सम्पूर्ण राष्ट्र की सेवा करें। एनसीसी के समन्वयक डॉ सत्येंद्र कुमार यादव ने कहा की एनसीसी कैडेट सदैव राष्ट्र भावना का व्रत लेकर भारतीय झंडे के हर रंग का सम्मान बढाये साथ जन सेवा के माध्यम से कैडेट को अपना कर्तव्य का एहसास होना चाहिये।

कुलपति ने हर घर तिरंगा लगाने की अपील की

कुलपति प्रो त्रिपाठी ने प्रभात फेरी एवं हर घर तिरंगा अभियान में विश्वविद्यालय के समस्त अध्यापकों, अधिकारियों, कर्मचारियों एवं विद्यार्थियों से अपने -अपने घरों पर तिरंगा ध्वज लगाने की अपील की। ;प्रभात फेरी के प्रारम्भ में कुलपति प्रो हरेराम त्रिपाठी ने अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर प्रभात फेरी व तिरंगा यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

प्रभात फेरी में कुलसचिव केशलाल, प्रो रामकिशोर त्रिपाठी, प्रो हरिशंकर पान्डेय, प्रो हरिप्रसाद अधिकारी, प्रो रमेश प्रसाद, प्रो महेंद्र पान्डेय, प्रो हीरक कान्ति चक्रवर्ती, प्रो. जितेन्द्र कुमार, प्रो शैलेश मिश्र, प्रो शंभूनाथ शुक्ल, प्रो अमित शुक्ल आदि शामिल रहे।

Check Also

03_289

प्रतिभावान छात्रों को इविवि में कोई परेशानी नहीं होगी : कुलपति

प्रयागराज, 05 अक्टूबर (हि.स.)। इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव ने सभी छात्रों को …