Oral Health: ज्यादा देर तक ब्रश करने से नहीं होते दांत साफ, क्या आप जानते हैं ब्रश करने का सही तरीका क्या है

ओरल हेल्थ: कहा जाता है कि अगर आपकी मुस्कान अच्छी है तो यह किसी का भी दिन बना सकती है. चमकीले दांत अच्छी मुस्कान की पहचान होते हैं। अगर आपके दांत पीले या गंदे दिखते हैं तो ये सामने वाले को आपके बारे में गलत धारणा देते हैं। खराब दांत आपकी पर्सनालिटी को तो खराब करते ही हैं साथ ही कई बीमारियों का कारण भी बनते हैं।

हम सभी दिन में दो बार ब्रश करते हैं, लेकिन ब्रश करने का सही तरीका क्या है? बहुत कम लोग जानते हैं कि कौन सा पेस्ट हमारे लिए अच्छा होता है। यदि आप अपने मौखिक स्वास्थ्य की उपेक्षा करते हैं, तो यह न केवल आपके दांतों को नुकसान पहुंचाएगा, बल्कि सांसों की बदबू, कमजोर मसूड़े और कई गंभीर बीमारियों को भी जन्म देगा। जानिए एक व्यक्ति को दिन में कितनी बार ब्रश करना चाहिए और इसे करने का सही तरीका क्या है।

3 मिनट करो लेकिन..

डॉक्टरों का कहना है कि हर बार 4 मिनट तक ब्रश करने से दांतों की अच्छी तरह सफाई हो सकती है। लेकिन, ध्यान देने वाली बात यह है कि हमें दिन में 2 बार से ज्यादा ब्रश करने से बचना चाहिए। दांतों की सफाई के लिए हमेशा सॉफ्ट ब्रिसल वाले ब्रश का इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्‍योंकि यह हमारे दांतों और मसूड़ों को नुकसान नहीं पहुंचाता है। दिन में 2 से 4 मिनट तक ब्रश करने से हमारे दांतों से प्लाक (बैक्टीरिया की एक रंगहीन, चिपचिपी परत) आसानी से निकल जाता है और हमारे दांत चमकीले और मजबूत रहते हैं।

फायदा

मसूढ़ों की बीमारी नहीं
मुंह के कैंसर का खतरा कम
 दांतों की सड़न नहीं
प्लाक की समस्या भी दूर होती है

इस टूथपेस्ट का प्रयोग करें

अपने दांतों को साफ करने के लिए हमेशा सही मात्रा में फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें। वयस्क टूथपेस्ट में 1350 पीपीएम फ्लोराइड होना चाहिए और 6 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के टूथपेस्ट में 1000 पीपीएम फ्लोराइड होना चाहिए। डॉक्टरों के मुताबिक 3 से 6 साल के बच्चों को ब्रश करने के लिए मटर के दाने के बराबर मात्रा में टूथपेस्ट देना चाहिए।

यह क्रिया आपके दांतों को कमजोर कर सकती है

ध्यान रहे कोई भी अम्लीय भोजन या पेय पदार्थ का सेवन करने के तुरंत बाद ब्रश न करें। क्‍योंकि ऐसा करने से दांतों का इनेमल कमजोर हो जाता है, जिससे दांत कमजोर होने लगते हैं। दरअसल, इनेमल दांतों के ऊपर एक पतली परत होती है जो एक सुरक्षा कवच की तरह काम करती है। इसका काम दांतों को किसी भी तरह के नुकसान से बचाना है।

Check Also

हल्की सर्दी में त्वचा को प्राकृतिक तरीके से करें मॉइस्चराइज, पेश हैं कुछ खास पैक

मौसम में बदलाव बता रहे हैं कि सर्दी आ गई है। विभिन्न शारीरिक जटिलताएँ पहले से …