राम मंदिर या धारा 370 नहीं बल्कि लोकसभा चुनाव जीतने के लिए पीएम मोदी का सबसे ज्यादा फोकस इसी मुद्दे पर

लोकसभा चुनाव 2024 : लोकसभा चुनाव की तैयारियों के तहत बीजेपी ने मोदी सरकार की 10 साल की उपलब्धियों और कल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने की तैयारी शुरू कर दी है. बीजेपी राम मंदिर निर्माण, जम्मू-कश्मीर से धारा-370 हटाने जैसे मुद्दे भी जनता के सामने रखेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर पार्टी के तमाम बड़े नेता लगातार इन सभी विषयों पर अपनी आवाज उठा रहे हैं, लेकिन क्या बीजेपी को चुनाव जीतने के लिए सिर्फ इन्हीं विषयों पर निर्भर रहना होगा? चुनाव प्रचार में बीजेपी को ये सभी मुद्दे जनता के बीच उठाने हैं, लेकिन पार्टी का सबसे ज्यादा ध्यान दूसरे मुद्दों पर भी है.

पीएम मोदी का कार्यकर्ताओं को 100 दिन का टास्क

बीजेपी चुनाव प्रचार में मोदी सरकार की 10 साल की उपलब्धि के अलावा राम मंदिर और धारा 370 का मुद्दा भी उठाएगी. इसके अलावा पार्टी बूथ मैनेजमेंट पर भी ज्यादा फोकस कर रही है. हाल ही में बीजेपी का राष्ट्रीय अधिवेशन हुआ था, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM नरेंद्र मोदी) ने ज्यादा से ज्यादा वोटरों को जोड़ने के लिए कार्यकर्ताओं को 100 दिन का टास्क सौंपा था. उन्होंने कहा, ‘भाजपा कार्यकर्ता देश के लिए कुछ न कुछ करते रहते हैं, लेकिन अगले 100 दिन नई ऊर्जा, नए उत्साह, नए उत्साह, नए विश्वास और नए जोश के साथ काम करने के हैं। एक-एक करके मतदाताओं तक पहुंचना होगा।’ इस संबोधन में बूथ प्रबंधन और बूथ जीतने की रणनीति का स्पष्ट संदेश है।

मोदी के लक्ष्य को हासिल करने के लिए बीजेपी का काम शुरू

बीजेपी प्रधानमंत्री मोदी के लक्ष्य को हासिल करने की तैयारी में जुट गई है. बीजेपी ने यह भी साफ संदेश दिया है कि सभी प्रदेश इकाइयों की जिम्मेदारी तय करने के साथ ही सभी मंडल प्रभारियों को 30 दिन में कम से कम एक दिन एक पेज अध्यक्ष के साथ बैठक करनी चाहिए. उन्होंने हर वोटर तक पहुंचने का जिम्मा सौंपा है और इसके लिए पार्टी ने रणनीति बनाई है. देशभर में सभी स्तर के नेताओं और कार्यकर्ताओं को हर बूथ पर 370 वोट जुटाने को कहा गया है. आंकड़ों के मुताबिक, एक लोकसभा क्षेत्र में कुल 10 लाख 35 हजार और औसतन 1900 बूथ होते हैं. इसके मुताबिक बीजेपी का लक्ष्य एक लोकसभा क्षेत्र में औसतन सात लाख और कुल 38 लाख मतदाताओं को जोड़ने का है.