उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने दक्षिण कोरिया और जापान के साथ बढ़ते तनाव के बीच बैलिस्टिक मिसाइलों और एक बड़े परमाणु शस्त्रागार को विकसित करने की कसम खाई है। उत्तर कोरियाई मीडिया ने रविवार को बताया कि सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की एक बैठक में किम जोंग-उन ने देश की संप्रभुता और सुरक्षा के लिए भारी सैन्य शक्ति का आह्वान किया।

राष्ट्रपति किम जोंग उन की बैठक पिछले सप्ताह उत्तर कोरिया की ड्रोन घुसपैठ और अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल फायरिंग के बाद सीमा पार से बढ़े तनाव के बीच हुई। किम ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया पर प्योंगयांग को अलग-थलग करने और दबाव बनाने का आरोप लगाया।

उत्तर कोरिया ने बताया है कि किम जोंग-उन ने देश की परमाणु शक्ति को मजबूत करने की योजना के तहत एक अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल विकसित करने की कसम खाई है। इस बीच किम जोंग ने दक्षिण कोरिया को अपना दुश्मन बताया। उन्होंने कहा कि निस्संदेह दक्षिण कोरिया हमारे लिए दुश्मन बन गया है।

दुनिया की सबसे बड़ी परमाणु शक्ति बन जाएगा उत्तर कोरिया: किम जोंग

उत्तर कोरिया के वर्तमान नेता किम जोंग उन ने कहा है कि उनके देश का अंतिम लक्ष्य दुनिया की सबसे शक्तिशाली परमाणु शक्ति हासिल करना है। उन्होंने उत्तर कोरिया की सबसे बड़ी बैलिस्टिक मिसाइल के हालिया प्रक्षेपण में शामिल दर्जनों सैन्य अधिकारियों का उत्साहवर्धन करते हुए यह बात कही। कोरियाई प्रायद्वीप पर सैन्य तनाव इस साल तेजी से बढ़ गया है क्योंकि उत्तर कोरिया ने नवंबर में अपनी अब तक की सबसे उन्नत बैलिस्टिक मिसाइल सहित कई हथियारों का परीक्षण किया था।

अक्टूबर से अब तक कई बार मिसाइलें दागी जा चुकी हैं

बता दें कि 30 दिसंबर को उत्तर कोरिया ने अपने पूर्वोत्तर तट पर एक बैलिस्टिक मिसाइल भी लॉन्च की थी। यह इस साल उत्तर कोरिया द्वारा किए गए हथियारों के परीक्षणों में से एक था। उत्तर कोरिया की ओर से मिसाइल दागे जाने के बाद दक्षिण कोरियाई सेना अलर्ट हो गई है। अमेरिका, दक्षिण कोरिया और जापान की चेतावनियों को नजरअंदाज करते हुए उत्तर कोरिया ने पिछले अक्टूबर और नवंबर में दो बैलिस्टिक मिसाइलें भी लॉन्च कीं।