महिलाओं में इन 10 लक्षणों को न करें नजरअंदाज, हो सकती हैं गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हर कोई इतना व्यस्त हो गया है कि लोग अपनी सेहत का ठीक से ध्यान नहीं रख पाते हैं। घर और ऑफिस की जिम्मेदारियों को संभालने के चक्कर में अक्सर महिलाएं छोटी-मोटी बीमारियों को नजरअंदाज कर देती हैं।

आगे चलकर ये बीमारियां काफी खतरनाक साबित हो सकती हैं। आपको बता दें कि थकान, सर्दी, सिरदर्द आदि जैसे मामूली लक्षण बाद में हमारे शरीर में गंभीर बीमारी का रूप ले लेते हैं। आइए जानते हैं उन लक्षणों के बारे में जो बाद में महिलाओं के लिए बड़ी परेशानी का कारण बन सकते हैं।

वजन परिवर्तन:

अचानक वजन बढ़ना या कम होना भी कई बड़ी बीमारियों का लक्षण है। अगर आपका वजन अचानक से बढ़ने लगे तो ये सब थायराइड और डिप्रेशन जैसी समस्याओं के लक्षण हैं। वहीं दूसरी तरफ अचानक वजन कम होना भी डायबिटीज, लिवर और कैंसर जैसी बीमारियों का संकेत है।

थकान महसूस कर रहा हूँ:

अगर आपको लंबे समय से थकान की शिकायत रही है, तो आप मेटाबॉलिक डिसऑर्डर जैसी समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं। काम के बाद थकान महसूस होना सामान्य है; लेकिन बार-बार और हर समय थकान महसूस करना परेशान कर सकता है।

सीने में दर्द:

अगर आपको सीने में दर्द, दिल की धड़कन तेज होना, सांस लेने में तकलीफ आदि लक्षण महसूस हों तो इन्हें बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें। क्‍योंकि इन सभी कारणों से दिल की बड़ी बीमारी हो सकती है।

नज़रों की समस्या:

यदि आप सब कुछ स्पष्ट या स्पष्ट रूप से नहीं देख सकते हैं तो खराब दृष्टि होना भी सामान्य नहीं है; तो ये भी स्ट्रोक के लक्षण हैं। ऐसे किसी भी लक्षण को हल्के में न लें और सावधानी बरतें।

त्वचा के रंग में बदलाव:

अगर आपको अपनी त्वचा में कुछ बदलाव नजर आते हैं, जैसे कि त्वचा का रंग काला पड़ना या त्वचा पर निशान पड़ना, तो ये भी डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं। बदलते मौसम में अपनी त्वचा का विशेष ध्यान रखें और कोई भी बदलाव नजर आने पर डॉक्टर से जरूर सलाह लें

खर्राटे लेना:

थकान के बाद नींद के दौरान खर्राटे लेना आम बात है, लेकिन अगर आप पाते हैं कि आप सोते समय बहुत तेज और जोर से खर्राटे लेते हैं, तो यह हृदय और वजन बढ़ने का लक्षण भी हो सकता है।

सांस लेने में दिक्क्त:

कुछ महिलाओं को अक्सर सांस की तकलीफ का अनुभव होता है; और इसका मतलब है कि आपके दिल को पर्याप्त रक्त की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। अक्सर ये समस्याएं महिलाओं में हार्ट अटैक के खतरे को बढ़ा देती हैं।

मासिक धर्म में परिवर्तन:

पीरियड्स में बदलाव होना सामान्य है लेकिन अगर आपको कुछ अलग नजर आता है; जैसे बढ़ा हुआ फ्लो, ज्यादा दर्द, ज्यादा ब्लीडिंग, समय पर पीरियड्स का न आना आदि। ये सभी लक्षण किसी खतरनाक बीमारी के संकेत हो सकते हैं। इस प्रकार के लक्षण डिम्बग्रंथि के कैंसर, संक्रमण और कई अन्य जानलेवा बीमारियों का कारण बन सकते हैं।

कमज़ोरी:

शरीर के किसी भी हिस्से में अत्यधिक कमजोरी महसूस होना, चेहरे या हाथ-पैरों का सुन्न होना, ये सभी ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण हैं। अगर आपको ऐसे कोई भी लक्षण महसूस हों तो आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए और इन्हें सामान्य लक्षण मानकर अपनी सेहत से समझौता नहीं करना चाहिए।

Check Also

Cabbage Juice Benefits: पत्तागोभी का जूस सिर्फ वजन ही कम नहीं करता बल्कि इसके और भी कई बड़े फायदे

कुछ डिटॉक्स ड्रिंक्स हैं, जिनके सेवन से वजन घटाने में मदद मिलती है। इन्हीं में से …