NCB और गुमला पुलिस की कार्रवाई:7 लाख रुपए कीमत के गांजा के साथ दो पकड़ाए, ओडिशा से पहुंचाना था बिहार

ओडिशा से झारखंड के रास्ते बिहार में गांजा सप्लाई करने की योजना पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) व गुमला पुलिस की संयुक्त टीम ने पानी फेर दिया। टीम ने गांजा पहुंचाने का जिम्मा लेने वाले औरंगाबाद के तैमुर निवासी ड्राइवर अजय साह व बिजेंद्र साह को पकड़ लिया है। जो ट्रैक्टर के हाइड्रोरिक में 118 किलो गांजा छिपा कर ले जा रहे थे। गांजा की कीमत छह हजार रुपए किलाे के हिसाब से 7 लाख आठ हजार रुपए आंकी गई है। यह कार्रवाई बुधवार की देर रात पालकोट रोड के एक ढाबे के बाहर की गई।

NCB की टीम कर रही थी रेकी
NCB टीम के ऑफिसर अमित कुमार ने बताया कि 10 जनवरी को सूचना प्राप्त हुई थी कि ट्रैक्टर में गांजा छिपाकर ओडिशा के कोरापुठ से झारखंड होते हुए औरंगाबाद ले जाया जा रहा है। इसके बाद टीम द्वारा रेकी की जा रही थी। बुधवार को स्पष्ट सूचना मिली कि वो ट्रैक्टर एक ढाबे में खड़ी की गई है। इसके बाद पुलिस की मदद से जांच करने पर ट्रैक्टर के डाला को उठाया गया तो उसके हाइड्रोलिक में गांजा मिला।

ट्रैक्टर के डाला को उठाया गया तो उसके हाइड्रोलिक में गांजा मिला।
ट्रैक्टर के डाला को उठाया गया तो उसके हाइड्रोलिक में गांजा मिला।

40 हजार में गांजा पहुंचाने का तय किया था सौदा
गिरफ्तार बिजेंद्र साह ने बताया कि 9 जनवरी को औरंगाबाद से गुमला होते हुए ओडिशा के कोरापुठ पहुंचे थे। वहां से 12 जनवरी की सुबह 5 बजे गांजा लोड कर रवाना हुए। जब वो किसी थाने के पास से गुजरते थे तो गाड़ी धीरे कर देते थे। ताकि शक ना हो। बताया कि गांजा औरंगाबाद के हरि नामक व्यक्ति तक पहुंचाना था। इसके लिए हरि से किराए के रूप में 40 हजार रुपए में सौदा हुआ था। 20 हजार रुपए एडवांस में मिला था। बाकी गांजा पहुुंचने के बाद देने की बात हुई थी।

Check Also

हरियाणा : निजी अस्पताल में मंदबुद्धि युवती के साथ गैंगरेप

      पानीपत : जिले के एक निजी अस्पताल में एक मंदबुद्धि युवती से दुष्कर्म …