Navratri 2020: शारदीय नवरात्र पर राजयोग, द्विपुष्कर, सिद्धि, सर्वार्थसिद्धि और अमृत योग

इस साल शारदीय नवरात्र पर राजयोग, द्विपुष्कर योग, सिद्धियोग, सर्वार्थसिद्धि योग और अमृत योग जैसे संयोग बन रहे हैं। 17 से 25 अक्तूबर तक नवरात्र मनाए जाएंगे। मान्यता है कि इन दिनों मां दुर्गा का पाठ करना बहुत ही उत्तम रहता है। ज्योतिषाचार्य ने बताया कि इस बार नवरात्र पर मां दुर्गा घोड़े पर सवार होकर आ रही हैं और भैंसे पर सवार होकर विदा होंगी। इसे शुभ नहीं माना जा रहा। ऐसा कहा जाता है कि माता के वाहन के रूप से भविष्य के कई संकेत मिलते हैं।

 

ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्रपुरी के अनुसार 17 अक्तूबर को घट स्थापना मुहूर्त सुबह 06:27 से 10:13 बजे तक रहेगा। अभिजित मुहूर्त सुबह 11:44 मिनट से दोपहर 12:29 बजे तक होगा। 23 अक्तूबर को सुबह 6:30 बजे पर सप्तमी तिथि रहेगी। इसलिए सप्तमी तिथि को सातवां नवरात्र मानेंगे। 24 को सुबह 6:59 पर अष्टमी तिथि रहेगी जबकि सूर्य उदय 6:30 पर होगा। कंजक व अष्टमी पूजन इसी सुबह माना जाएगा। इसके बाद नवमीं तिथि लग जाएगी।

Check Also

धन की वर्षा करनी है तो आज ही घर में लगाएं इस पौधे को…

क्रासुला को मनी ट्री भी कहा जाता है। फेंगशुई में इसका काफी महत्व है। कहते …