राष्ट्रीय शिक्षा दिवस 2022: ऐसे हुई राष्ट्रीय शिक्षा दिवस की शुरुआत, जानिए इसका इतिहास और महत्व

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस 2022: देश के सबसे महान स्वतंत्रता सेनानी और प्रख्यात शिक्षाविद् मौलाना अबुल कलाम आजाद (Maulana Abul Kalam Azad) का आज 11 नवंबर को जन्म हुआ है. हर साल इस दिन को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिन देश के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद को समर्पित है। राष्ट्र निर्माण और विकास में अच्छी शिक्षा के महत्व को समझते हुए आजाद ने आजादी के बाद देश में आधुनिक शिक्षा प्रणाली लाने का काम किया। इसलिए उनके प्रति आभार व्यक्त करने के लिए यह दिन मनाया जाता है।

 

यह इतिहास है

मौलाना अबुल कलाम आजाद ने देश के शिक्षा क्षेत्र में बहुत योगदान दिया है। इसलिए केंद्र सरकार ने मौलाना अबुल कलाम आजाद की जयंती को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की। तदनुसार, 11 सितंबर 2008 से देश के सभी शिक्षण संस्थानों में मौलाना अबुल कलाम आजाद की जयंती पर राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाया जाता है। देश के शिक्षा मंत्रालय ने मौलाना आजाद के नेतृत्व में 1951 में देश के पहले IIT की स्थापना की। इसके बाद 1953 में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की स्थापना हुई। उन्होंने अनुमान लगाया कि ये संस्थान भारत के उच्च शिक्षा क्षेत्र में महत्वपूर्ण हो जाएंगे। इसके साथ ही उनके कार्यकाल में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और माध्यमिक शिक्षा आयोग की स्थापना की गई। उन्होंने देश में प्रसिद्ध जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय की स्थापना में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

 

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर स्कूलों और कॉलेजों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस दिन, छात्र और शिक्षक साक्षरता के महत्व और शिक्षा के विभिन्न पहलुओं पर अपने विचार साझा करते हैं। इस दौरान व्याख्यान, कार्यशालाएं, निबंध, भाषण, पोस्टर प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं। इसके पीछे मकसद यह है कि सभी को शिक्षा का महत्व पता होना चाहिए।

ये है इस साल की थीम

हर साल, राष्ट्रीय शिक्षा दिवस एक थीम के आसपास मनाया जाता है। विषय शिक्षा मंत्रालय द्वारा तय किया जाता है। तदनुसार, राष्ट्रीय शिक्षा दिवस 2022 का विषय ‘पाठ्यक्रम बदलना, शिक्षा को बदलना’ है। यह विषय दिखाता है कि वर्तमान और भविष्य की जरूरतों के अनुसार शिक्षा प्रणाली को कितना और कैसे बदलना है।

Check Also

Gujarat Election Result 2022: गुजरात में ओवैसी की पार्टी AIMIM को मिले NOTA से भी कम वोट, जानें AAP का हाल

अहमदाबाद : राज्य में 27 साल सत्ता में रहने के बावजूद इस बार फिर से भारतीय …