‘बीजेपी शासन में ही मुसलमान सबसे अधिक सुरक्षित और खुश, सोच-समझकर करें वोट’- मुस्लिम राष्ट्रीय मंच

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) की मुस्लिम शाखा मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (Muslim Rashtriya Manch) ने पांच राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनावों (Assembly elections) में अल्पसंख्यक समुदाय से बीजेपी को वोट देने की शुक्रवार को अपील करते हुए कहा कि बीजेपी शासन में मुसलमान सबसे सुरक्षित और खुश हैं, जबकि कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी उन्हें केवल वोट बैंक मानती हैं. एमआरएम ने समुदाय के कल्याण के लिए केंद्र और राज्यों में बीजेपी सरकारों की ओर से लागू की गई विभिन्न योजनाओं का जिक्र किया और कहा कि पार्टी देश में मुसलमानों की सबसे बड़ी शुभचिंतक है. एमआरएम ने आरोप लगाया कि कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी सहित विपक्षी दलों ने मुसलमानों को केवल अपना वोट बैंक माना है और सत्ता में आने के बाद उन्होंने समुदाय के सदस्यों को गरीबी, अशिक्षा, पिछड़ापन और तीन तलाक जैसे अत्याचार दिए.

संगठन के राष्ट्रीय संयोजक शाहिद सईद ने बताया कि एमआरएम का ‘निवेदन पत्र’ पर्चे के रूप में प्रकाशित हुआ है और इसे चुनाव वाले राज्यों में वितरित करने के लिए यहां एक बैठक में जारी किया गया, जिसकी अध्यक्षता एमआरएम के संस्थापक और मुख्य संरक्षक इंद्रेश कुमार ने की. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, मणिपुर और पंजाब में बीजेपी के लिए वोट मांगने के लिए पर्चे को अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों के बीच बांटा जाएगा.

अल्पसंख्यक समुदायों के लिए मोदी सरकार ने शुरू की 36 योजनाएं 

उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने 2014 से अल्पसंख्यक समुदायों के कल्याण के लिए नई रोशनी, नया सवेरा, नई उड़ान, सीखो और कमाओ, उस्ताद और नई मंजिल समेत 36 योजनाएं शुरू की हैं. संगठन ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों को प्रधानमंत्री आवास योजना, मुद्रा योजना, जन धन योजना, उज्ज्वला योजना, अटल पेंशन योजना, स्टार्टअप इंडिया और मोदी सरकार की ओर से शुरू की गई अन्य योजनाओं से भी लाभ हुआ है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने मुसलमानों को केवल अपना वोट बैंक माना है.

मुसलमानों को कांग्रेस और समुदाय से तथाकथित सहानुभूति रखने वालों के शासन के दौरान गरीबी, अशिक्षा, हिंदुओं के खिलाफ नफरत, पिछड़ापन और तीन तलाक जैसे इस्लाम विरोधी अत्याचार मिले. एमआरएम ने दावा किया कि 2014 के बाद से मुसलमानों के खिलाफ ‘सांप्रदायिक दंगों और अत्याचारों’ की घटनाओं में ‘काफी कमी आई है. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार मुसलमानों की सबसे बड़ी शुभचिंतक है. चुनाव के दौरान कांग्रेस, एसपी-बीएसपी के झांसे में न आएं. देश के मुसलमान बीजेपी के शासन में सबसे सुरक्षित और खुश हैं और आगे भी रहेंगे, इसलिए सोच-समझकर वोट करें. जरा सी चूक परेशानी का कारण बन सकती है.

Check Also

मप्रः भोपाल में हर्षोल्लास के माहौल में मनाया गया 73वाँ गणतंत्र दिवस

भोपाल, 26 जनवरी (हि.स.)। राजधानी भोपाल में 73वां गणतंत्र दिवस हर्षोल्लास के माहौल में मनाया …