ट्रक ड्राइवरों को मोदी सरकार की बड़ी राहत, आराम के लिए हाईवे पर बनेंगे 1000 सुविधा केंद्र

मोदी सरकार राजमार्गों पर ट्रक और टैक्सी चालकों के लिए विश्राम क्षेत्र उपलब्ध कराने की एक नई योजना पर काम कर रही है। इस योजना के तहत पहले चरण में 1000 विश्राम गृह बनाये जायेंगे. राष्ट्रीय राजमार्गों के किनारे बनने वाले इन सुविधा केंद्रों पर चालकों के लिए विश्राम गृह, शौचालय और पीने का पानी उपलब्ध कराया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने यहां ‘भारत मोबिलिटी’ विश्व प्रदर्शनी को संबोधित करते हुए राजमार्गों पर ट्रक और टैक्सी चालकों की समस्याओं की ओर उद्योग जगत का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश की. उन्होंने कहा कि ड्राइवर परिवहन क्षेत्र का अहम हिस्सा है. वे लंबे समय तक गाड़ी चलाते हैं लेकिन उनके पास आराम करने के लिए उचित जगह भी नहीं है। जिसके कारण उन्हें आराम करने का समय नहीं मिल पाता, कई बार सड़क दुर्घटनाएं भी हो जाती हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ट्रक ड्राइवरों और उनके परिवारों की चिंता को समझती है।

उन्होंने कहा कि सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर ड्राइवरों के लिए भोजन, स्वच्छ पेयजल, शौचालय, पार्किंग और आराम की सुविधाओं से सुसज्जित आधुनिक इमारतों के निर्माण की ‘नई योजना’ पर काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार इस योजना के पहले चरण में देशभर में ऐसी 1000 इमारतें बनाने की तैयारी कर रही है. उन्होंने कहा कि इस पहल से ट्रक और टैक्सी चालकों को आसानी होगी और यात्रा भी सुविधाजनक होगी. इससे उनके स्वास्थ्य में सुधार होगा और सड़क दुर्घटनाओं को रोकने में मदद मिलेगी।

 

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने पहले ही एक अधिसूचना जारी कर दी है कि 1 अक्टूबर, 2025 के बाद निर्मित ट्रकों में ड्राइवरों के लिए एसी केबिन उपलब्ध कराए जाने चाहिए। यह कदम ट्रक ड्राइवरों की कामकाजी परिस्थितियों और सुरक्षा में सुधार के लिए एक व्यापक पहल का हिस्सा है।