भारत बंद का नवादा जिले में मिला जुला असर, सड़कों पर पसरा रहा सन्नाटा

नवादा, 20 जून(हि. स.)।अग्निपथ योजना को लेकर भारत बंद का नवादा जिले में मिलाजुला असर देखा गया। इस योजना के विरोध के बाबजूद जहां दुकानें खुली देखी गई। वहीं वाहनों का परिचालन ठप रहा। जिले की सड़कें सूनी देखी गई ।सरकारी कार्यालयों में भी काफी कम भीड़ देखी गई ।बाजारों में भी सन्नाटा देखा गया, पर दुकानदार अपनी दुकानें खोलकर बैठे थे । डीएम के नेतृत्व में वाहनों के काफिले के साथ नवादा की सड़कों पर फ्लैग मार्च निकाले गए। ताकि बलवाइयों का हौसला पस्त हो जाए ।सायरन की आवाज से घंटों गूंजते रहे नवादा शहर ।लोग भी दहशत में जीते रहे लेकिन सच्चाई है कि बलवाइयों को फटकने का भी मौका नहीं दिया गया ।।जिलाधिकारी उदिता सिंह ने बताया कि पूरे जिले में कड़े सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। यही कारण है कि किसी को फटकने का भी मौका नहीं दिया गया है। उन्होंने कहा कि बलवाइयों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सरकारी संपत्ति का नुकसान किसी रूप में भी स्वीकार्य नहीं होगा। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि देश और समाज में बलवा फैलाने वाले कभी राष्ट्रीय नहीं हो सकते। अपनी बातों को शांतिपूर्ण तरीके से रखने का सभी को अधिकार है ।अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के तहत मर्यादा में रहकर अभिव्यक्ति को रखें ।ताकि उन्हें सरकार तक पहुंचाया जा सके ।गोविंदपुर बाजार में प्रदर्शनकारियों को प्रशासनिक अधिकारियों के बीच कहासुनी की खबर है ,पर बाद में अधिकारियों ने समझा-बुझाकर स्थिति को नियंत्रित कर लिया है। नवादा नगर में किसी प्रकार के जुलूस नहीं निकाले गए ।माहौल काफी शांतिपूर्ण रहा।

रजौली अग्नीपथ योजना के विरोध में युवा संगठनों द्वारा घोषित भारत बंद को लेकर रजौली में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था। सोमवार की सुबह से ही एसडीओ आदित्य कुमार पीयूष एसडीपीओ संजय कुमार पांडे पूरी टीम के साथ सड़क पर रहे। रजौली के सभी चौक चौराहा सरकारी संस्थान भारतीय जनता पार्टी के कार्यालय समेत अन्य कई जगह पर सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाल रखा था । पटना रांची रोड एनएच 31 रजौली बाईपास में दंडाधिकारी के नेतृत्व में भारी संख्या में पुलिस बल को भी तैनात किया गया था। पूरे दिन बीडीओ अनिल मिस्त्री, थानाध्यक्ष दरबारी चौधरी बीएमपी और एसटीएफ के जवानों के साथ पूरे शहर और एनएच पर गस्त करते रहे। कहीं से अग्निपथ योजना के विरोध में एक भी व्यक्ति सड़क पर नहीं दिखे।

अग्नीपथ योजना के विरोध में युवा संगठन के द्वारा बंद का आवाहन करने के बाद क्षेत्रीय पार्टी राजद ने व अन्य कई पार्टियों ने इनका समर्थन किया था। उसके बाद भी बंद का कोई असर देखने को नहीं मिला । प्रतिदिन की तरह बाजार खुली और लोग अपनी जरूरत के अनुसार बेखौफ होकर सामान का खरीदारी किया और अपने अपने घर गए हैं। प्रशासन की कड़ी रुख देखकर अग्निपथ योजना के आड़ में शहर में उपद्रव मचाने वाले घर में दुबके रहे।

Check Also

सर्राफ व्यापारी के बेटे से हथियार के बल पर अपराधियों ने लूटे 30 किलो चांदी

भागलपुर, 24 जून (हि.स.)। जिले के तिलकामांझी थाना क्षेत्र के पटल बाबू रोड स्थित आर …