Mithun Sankranti 2021 : आज है ‘मिथुन संक्रांति’, जानिए शुभ मुहूर्त और महत्व

संक्रांति सूर्य का एक राशि से दूसरी राशि में स्थानांतरण है. एक वर्ष में बारह संक्रांति होती हैं. ‘मिथुन संक्रांति’ तब पड़ती है जब सूर्य वृषभ राशि से गोचर करता है और फिर मिथुन राशि में प्रवेश करता है. ओडिशा में इस त्योहार को ‘राजा पर्व’ कहा जाता है जबकि पूर्वी और उत्तर पूर्वी प्रांतों में ‘मिथुन संक्रांति’ को धरती माता के मासिक धर्म के चरण के रूप में मनाया जाता है, वहीं दूसरी ओर, दक्षिण भारत में संक्रांति को संक्रांति ही कहा जाता है.

मिथुन संक्रांति 2021 का महत्व

सभी बारह संक्रांति चार श्रेणियों में विभाजित हैं-

– अयान संक्रांति
– विशुवा या संपत संक्रांति
– विष्णुपदी संक्रांति
– षष्ठीमुखी संक्रांति

मिथुन संक्रांति षडशित्तमुखी संक्रांति है. सूर्य का एक राशि से दूसरी राशि में गोचर एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटना है और इसका ज्योतिषीय प्रभाव पड़ता है. संक्रांति के बाद सभी दान पुण्य गतिविधियों को करने के लिए सोलह घाटियां ली जाती हैं, इसे शुभ माना जाता है.

मिथुन संक्रांति 2021 का शुभ मुहूर्त

संक्रांति दिवस- मंगलवार
अवलोकन दिवस- 15 जून, 2021
ट्रांजिट की तारीख- 15 जून, 2021
संक्रांति क्षण- 06:17 जून 15 संक्रांति घाटी 2 (दिनमना)
संक्रांति चंद्र राशि- कारक
संक्रांति नक्षत्र- अश्लेषा
पुण्य काल- 06:17 – 13:43
महा पुण्य काल- 06:17 – 08:36

मिथुन संक्रांति 2021 की पूजा विधि और उत्सव

लोग सूर्योदय से पहले स्नान करते हैं.
उगते सूर्य को अर्घ्य दें, जल में रोली और उसमें लाल फूल चढ़ाएं.
रेड कार्पेट पर बैठ कर सूर्य मंत्र का जाप करें.
भक्त भगवान विष्णु और भू-देवी, देवी पृथ्वी की पूजा करते हैं.
ओडिशा में लोग पारंपरिक कपड़े पहनते हैं.
पीसकर पत्थर की विशेष पूजा की जाती है, जिसे सजाया जाता है, इसमें धरती माता का चित्रण होता है.
लड़कियां सुंदर परिधानों के साथ तैयार हो जाती हैं और बरगद के पेड़ों की छाल पर तरह-तरह के झूलों का आनंद लेती हैं.
पितरों की पूजा मंदिरों में या नदियों के किनारे की जाती है.
बारिश का स्वागत करने के लिए पुरुष महिलाएं धरती पर नंगे पांव नृत्य करती हैं.
इस दिन दान करना बहुत ही शुभ माना जाता है.
गाय को उपहार में देना अत्यंत शुभ होता है.

मिथुन संक्रांति 2021 का मंत्र

ऊं घृणी सूर्य आदित्य नमः

Check Also

पान के इन छोटे- छोटे टोटके से बदल जाएगी आपकी किस्मत, कभी नहीं होगी धन की कमी

पान के पत्ते को हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र और शुभ माना जाता हैं। …