उच्च शिक्षा संबंधी अधोसंरचनाओं को सुदृढ़ करना प्राथमिकता: मंत्री परमार

भोपाल, 2 फरवरी (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की समृद्ध संस्कृति और शिक्षा के महत्व को वास्तविक अर्थों में समाहित करते हुए राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 लागू की है। व्यापक विचार और मंथन के साथ नवीन शिक्षा नीति में हमारी गौरवशाली सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और सामाजिक विरासत का समावेश किया गया है। आज नवीन शिक्षा नीति के माध्यम से हमारा खोया हुआ गौरव वापस लौट रहा है, जिससे भारत अपनी “वसुधैव कुटुंबकम” की परंपरा को स्थापित करते हुए पुनः विश्व गुरु के परम वैभव की प्राप्ति की ओर अग्रसर है।

यह बात उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा एवं आयुष मंत्री इन्दर सिंह परमार ने शुक्रवार को नर्मदापुरम जिले के बनखेड़ी में पांच करोड़ 46 लाख 17 हजार रुपये की लागत से नवनिर्मित शासकीय महाविद्यालय भवन के लोकार्पण समारोह में कही। उन्होंने महाविद्यालय के विद्यार्थियों को नवीन भवन के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी। मंत्री परमार ने कहा कि आज बनखेड़ी के समस्त विद्यार्थियों और स्थानीय लोगों में नवीन भवन को लेकर अभूतपूर्व उत्साह दिखाई दे रहा है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार, उच्च शिक्षा से अधोसंरचनाओं को सुदृढ़ करने के लिए प्रतिबद्धता से निरंतर कार्य कर रही है। प्रदेश में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के अनुसरण में दृढ़ता से क्रियान्वयन हो रहा है।

इस अवसर पर पिपरिया विधायक ठाकुरदास नागवंशी, दर्शन सिंह चौधरी, माधवदास अग्रवाल, नगर पालिका अध्यक्ष हरीश मालानी, जनपद अध्यक्ष पूनम पटैल, महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य डॉ. सतीश पिपलौदे सहित प्राध्यापकगण, विद्यार्थी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।