मेरठ मेट्रो ट्रेन: अब इस रूट पर चलेगी 3 कोच वाली मेट्रो ट्रेन, 120 KM की स्पीड, 700 यात्री करेंगे सफर

मेरठ मेट्रो ट्रेन: मेरठ मेट्रो का पहला ट्रेन सेट गाजियाबाद के दुहाई डिपो पहुंच गया है। तीन डिब्बों वाले इस ट्रेन सेट को बड़े ट्रेलरों पर लाया गया था. दुहाई स्थित एनसीआरटीसी डिपो में पहुंचने के बाद इसे असेंबल किया जाएगा और कई तरह की टेस्टिंग भी की जाएगी। 27 फरवरी की रात को इसे दुहाई डिपो पहुंचाया गया।

हाल ही में, NCRTC के एमडी श्री विनय कुमार सिंह ने मेरठ मेट्रो ट्रेनसेट के पहले लुक का अनावरण किया था। कुछ समय पहले, गुजरात के सांवली में एल्स्टॉम द्वारा एनसीआरटीसी को पहला ट्रेनसेट सौंपा गया था। यह पहली बार है कि मेरठ मेट्रो का पहला ट्रेन सेट दुहाई के एनसीआरटीसी डिपो में पहुंचा है।

मेक इन इंडिया अभियान के तहत मेरठ मेट्रो का ट्रेन सेट आधुनिक तरीके से तैयार किया गया है। ये ट्रेन सेट डिजाइन में आधुनिक, ऊर्जा कुशल, हल्के हैं, जो रीजनरेटिव ब्रेकिंग सिस्टम, स्वचालित ट्रेन सुरक्षा (एटीपी), स्वचालित ट्रेन नियंत्रण (एटीसी), और स्वचालित ट्रेन संचालन (एटीओ) की तकनीक पर आधारित हैं। इस मेट्रो ट्रेन की स्पीड 120 किलोमीटर प्रति घंटा है।

मेरठ मेट्रो का लक्ष्य उत्तर प्रदेश के मेरठ के निवासियों को सुरक्षित, तेज और आधुनिक परिवहन सेवा प्रदान करना है। इसके अलावा मेरठ मेट्रो ट्रेनसेट के आने से जल्द ही मेरठ मेट्रो का ट्रायल रन भी शुरू कर दिया जाएगा. आपको बता दें कि मेरठ मेट्रो कॉरिडोर 13 स्टेशनों के साथ 23 किमी की लंबाई में फैला हुआ है। मेरठ मेट्रो और सभी स्टेशनों का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है।

यह देश में पहली बार है कि नमो भारत ट्रेनें और मेरठ मेट्रो दोनों दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस के बुनियादी ढांचे पर चलेंगी। इस ऑपरेशन को सफल बनाने के लिए, एनसीआरटीसी ने दीर्घकालिक विकास में हाइब्रिड लेवल 3 के साथ यूरोपीय ट्रेन नियंत्रण प्रणाली (ईटीसीएस) लेवल 2 लागू किया है। इससे मेरठ में आरआरटीएस और मेट्रो सेवाएं बिना रुकावट जारी रह सकेंगी।

मेरठ मेट्रो ट्रेनसेट की विशेषताएं

  • मेरठ मेट्रो को आधुनिक तरीके से डिजाइन किया गया है, जो यात्रियों को आराम और सुरक्षा प्रदान करता है। इस मेट्रो में एसी, आरामदायक बैठने की व्यवस्था, लगेज रैक, ग्रैब हैंडल, यूएसबी डिवाइस चार्जिंग जैसी कई आधुनिक सुविधाएं हैं।
  • मेरठ मेट्रो में 3 कार ट्रेन सेट शामिल होंगे। इसमें आधुनिक डिजाइन वाली सीटें हैं। वहीं, एक ट्रेन में 700 से ज्यादा यात्री सफर कर सकते हैं.
  • इस मेट्रो में आधुनिक तकनीक से बने हल्के वजन वाले स्टेनलेस स्टील कोच हैं।
  • मेरठ मेट्रो में आरामदायक खड़े स्थान, सामान रैक, सीसीटीवी कैमरे, मोबाइल चार्जिंग सुविधा, गतिशील मार्ग मानचित्र, इंफोटेनमेंट सिस्टम, प्रकाश-आधारित ऑटो नियंत्रण परिवेश प्रकाश व्यवस्था और अन्य सुविधाएं भी हैं।
  • भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सभी स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर (PSD) लगाए गए हैं ताकि यात्रियों की सुरक्षा में कोई चूक न हो.
  • ऊर्जा की खपत को कम करने के लिए मेरठ मेट्रो में पुश बटन के माध्यम से गेट खोलने, आपातकालीन निकास उपकरण, अग्निशामक यंत्र, अलार्म और टॉक-बैक सिस्टम जैसी सुरक्षा सुविधाएँ भी प्रदान की गई हैं।
  • इसके अलावा आपात स्थिति में मेडिकल स्ट्रेचर ले जाने के लिए जगह और व्हील चेयर के लिए जगह की व्यवस्था भी मेट्रो में की गई है।