दिल्ली एमसीडी चुनाव में आम आदमी पार्टी के ट्रांसजेंडर उम्मीदवार बॉबी किन्नर ने सुल्तानपुरी-ए वार्ड 43 से जीत हासिल की है. आम आदमी पार्टी ने पहली बार किसी ट्रांसजेंडर उम्मीदवार को मैदान में उतारा है। टिकट मिलने पर बॉबी ने कहा कि वह अन्ना आंदोलन और बाद में पार्टी बनने के बाद से आप से जुड़े रहे हैं.

दिल्ली में पहली बार किसी राजनीतिक दल ने किसी ट्रांसजेंडर को चुनाव का टिकट दिया। वार्ड में सामाजिक कार्यों से छाप छोड़ने वाले बॉबी किन्नर सर्वे में अव्वल रहे और उन्हें नगर निगम चुनाव का प्रत्याशी घोषित किया गया. बॉबी साल 2017 में निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नगर निगम का चुनाव भी लड़ चुके हैं. उनका कहना है कि जनसेवा ही उनका लक्ष्य है।

38 वर्षीय बॉबी किन्नर ‘हिंदू युवा समाज एकता अवाम आतंकवाद विरोधी समिति’ की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष भी हैं। बॉबी पिछले 15 सालों से इस संस्था से जुड़े हुए हैं। बॉबी 9वीं तक पढ़े हैं। इस जीत से बॉबी किन्नर का परिवार और खासकर उनका छोटा भाई बेहद खुश है।

भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए काम करेंगे-बॉबी

बॉबी किन्नर ने अपने क्षेत्र की समस्याओं का जिक्र करते हुए कहा कि आम लोगों को छोटे-मोटे काम और दस्तावेज बनवाने के लिए रिश्वत देनी पड़ती है. अगर मैं पार्षद बनता हूं तो भ्रष्टाचार खत्म करने का काम करूंगा। मैं अधिकारियों को घूस नहीं लेने दूंगा और जनता के काम मुफ्त में करूंगा। बॉबी ने आगे कहा कि प्रचार के दौरान वह दिल्ली में केजरीवाल सरकार के कामों को जनता तक पहुंचाएंगे.