Masik Kalashtami 2022 :कालाष्टमी के दिन करें ये उपाय, कालभैरव की कृपा से होंगे भय से मुक्ति

मासिक कालाष्टमी 2022: पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान भैरवनाथ की पूजा करने से व्यक्ति भय से मुक्त हो जाता है। इससे व्यक्ति के जीवन में आ रही परेशानियां दूर होती हैं और सुख-शांति की प्राप्ति होती है. कालभैरव भगवान शिव का एक रूप है और इस रुद्र रूप की पूजा हर महीने कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन की जाती है  । हिंदू धर्म में हर महीने कालाष्टमी पड़ती है। इसी के अनुसार ज्येष्ठ माहिना कालाष्टमी 21 जून को है। इस दिन सुबह पवित्र नदी में स्नान कर पितरों को तर्पण करने से कालभैरव की पूजा करने से लाभ होता है।

 

ऐसा है पौराणिक महत्व

कालाष्टमी के दिन भगवान कालभैरव की पूजा करने से नकारात्मक शक्तियां दूर रहती हैं। साथ ही तंत्र-मंत्र का प्रभाव व्यक्ति पर नहीं पड़ता। इससे व्यक्ति निडर हो जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान कालभैरव की उत्पत्ति भगवान शिव से हुई थी। भगवान शिव के दो रूप बटुकभैरव और कालभैरव माने जाते हैं। बटुकभैरव रूप को सौम्य माना जाता है। कालभैरव रूप रौद्र है। मान्यता है कि कालाष्टमी के दिन भगवान शिव ने पापों का नाश किया था। इसके लिए उन्होंने रौद्र का रूप धारण किया था। मासिक कालाष्टमी के दिन रात्रि में भगवान कालभैरव की पूजा की जाती है। इस बीच, यह माना जाता है कि रात में चंद्रमा को जल चढ़ाने के बाद ही उपवास पूरा होता है। 

 

यह उपाय करें

आर्थिक संकट से मुक्ति के लिए – 

 

यदि आप कई दिनों से आर्थिक परेशानी का सामना कर रहे हैं और आपकी आय में वृद्धि नहीं हो रही है, तो ज्योतिष के अनुसार कालाष्टमी के दिन शमी का पौधा लगाएं। इस पौधे को स्वच्छ मन से परोसें। ऐसा करने से व्यक्ति को सभी आर्थिक परेशानियों से मुक्ति मिलती है और शनि देव की कृपा प्राप्त होती है।

भय दूर करने के लिए-

अगर आपके मन में लगातार डर बना रहता है, अगर आपको रात को अच्छी नींद नहीं आने की समस्या है, तो कालाष्टमी के दिन ‘ओम ह्रीं बन बटुकाय अपदुधरनय कुरुकुरु बटुकाया ह्रीं’ मंत्र का जाप करें। इस मंत्र का जाप करने से कालभैरव प्रसन्न हो जाते हैं और आपके सभी भय दूर कर देते हैं।

दाम्पत्य जीवन में सुख-समृद्धि के लिए-

पारिवारिक कलह से मुक्ति और दांपत्य जीवन में मधुरता बनाए रखने के लिए कालाष्टमी के दिन शमी के पेड़ पर जल चढ़ाएं। साथ ही पेड़ के सामने सरसों के तेल का दीपक भी लगाएं। इस उपाय को आप रोजाना भी कर सकते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह उपाय वैवाहिक समस्याओं को दूर करने वाला माना जाता है।

Check Also

स्नान और पितृ दिवस:इस पर्व में जरूरतमंदों को दान देने से मिल सकते हैं यज्ञ के अनेक पुण्य फल, पिपला की पूजा से दूर होगी शनिदोष

जेठ का महीना 28 और 29 जून को रहेगा। शास्त्रों के अनुसार इस पर्व का विशेष …