ऐसे फल खाने से हो सकती है गैस और पेट की अन्य समस्याएं

पेट में गैस की समस्या को लेकर कई बार लोग दूसरों के लिए मजाक बन जाते हैं। जिससे उन्हें शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है। जो लोग अधिक गैस का उत्पादन करते हैं। वह खुद को दूसरों से दूर करने लगता है।

पेट की गैस तो सभी को होती है लेकिन जिनका पाचन खराब होता है या जिनको एसिडिटी या कब्ज की समस्या होती है उन्हें गैस की शिकायत दूसरों से ज्यादा होती है अगर पेट में ज्यादा देर तक गैस बनी रहे तो पेट में सूजन, पेट में भारीपन जैसा महसूस होता है। अल्सर और बवासीर जैसी कई तरह की समस्याओं की संभावना बढ़ जाती है।अक्सर आंतों में गैस बनने से पेट में दर्द होने लगता है और जब यह दर्द आंत के बायीं ओर चला जाता है तो इससे अपेंडिक्स में दर्द भी हो सकता है। कई बार हम उसके लिए महंगी दवाओं का सहारा लेते हैं।

हम जानते हैं कि फल खाने से सेहत में सुधार होता है और शरीर स्वस्थ रहता है। हर फल में कोई न कोई गुण होता है। जैसे सेब खाने से खून बढ़ता है और ताकत मिलती है, वैसे ही डॉक्टर भी कहते हैं कि रोज एक सेब खाओ और बीमारियों को दूर भगाओ।

इसी तरह केला खाने से पाचन क्रिया में लाभ होता है और मौसमी या अंगूर खाने से विटामिन-सी मिलता है। लेकिन आपने कई लोगों से सुना होगा कि एक खास फल खाने से एसिडिटी हो जाती है या फिर एक खास फल खाने से शरीर में गर्मी बढ़ जाती है। लेकिन यह बिलकुल गलत है।

फलों को हमेशा खाली पेट खाना चाहिए। फलों को किसी अन्य भोजन के साथ खाने से बचें। और फल खाने के बाद 30 से 40 मिनट तक और कुछ भी ना खाएं। ऐसा इसलिए क्योंकि हर फल को पचने में 20 से 30 मिनट का समय लगता है।

जबकि अन्य चीजों को पचने में दो या अधिक घंटे लगते हैं। उदा. अगर आप सुबह कुछ अनाज खाते हैं या दोपहर के भोजन में चावल या सब्जियां खाते हैं और फिर आप कुछ फल खाते हैं तो फल को पचने में केवल 20 मिनट लगते हैं जबकि बाकी खाना पचने में घंटों लगते हैं।

फलों को लेकर कई लोगों के मन में एक तरह का भ्रम बना हुआ है कि फल खाने से एलर्जी हो सकती है. लेकिन हकीकत में ऐसा नहीं है। कोई भी फल आपके लिए हानिकारक नहीं हो सकता। कोई भी फल खाने से वजन नहीं बढ़ता और न ही कोई फल खाने से एसिडिटी होती है। सच तो यह है कि हमें फल खाने का सही तरीका नहीं पता होता है, इसलिए फल खाने के बाद दिक्कत हो सकती है। आइए आज जानते हैं फल खाने के कुछ नियम।

ऐसे में आप जो फल खाते हैं उसका गूदा सीधे पेट और भोजन नली में जाना चाहिए लेकिन ऐसा इसलिए नहीं होता क्योंकि आप पहले भी पका हुआ खाना खा चुके होते हैं। इससे पके हुए भोजन के साथ फल का गूदा अन्नप्रणाली में फंस जाता है, और भोजन सड़ने लगता है, आगे बढ़ने में असमर्थ हो जाता है।

इसी बीच जब आप कुछ और खाते हैं तो वह पेट में सड़े हुए फल के संपर्क में आ जाता है और एसिड बन जाता है। जिससे आपको कब्ज और अपच जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं बल्कि कई बार इस अपशकुन के कारण गंभीर बीमारी का भी सामना करना पड़ता है

Check Also

High Cholesterol: हाई कोलेस्ट्रॉल की ये चेतावनी आपके चेहरे पर दिखती है, इसे बिल्कुल भी इग्नोर न करें

 उच्च कोलेस्ट्रॉल: शरीर में यकृत द्वारा निर्मित वसा को कोलेस्ट्रॉल या लिपिड कहा जाता है। शरीर के …