ममता ने किया महालया से तीन दिनों पहले दुर्गा पूजा का उद्घाटन

a_720

कोलकाता, 22 सितंबर (हि.स.)। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी एक बार फिर दुर्गा पूजा से पहले विवादों में घिर गई हैं। तीन दिनों पहले ही गुरुवार को उन्होंने अपने कैबिनेट के मंत्री सुजीत बसु की वीआईपी रोड में होने वाली दुर्गा पूजा का उद्घाटन किया है।

दरअसल ऐसी हिंदू परंपरा रही है कि महालया के दिन देवी आराधना के साथ दुर्गा पूजा की शुरुआत होती है और उसी दिन से उद्घाटन भी किया जाता है। बावजूद इसके जब मुख्यमंत्री ने तीन दिनों पहले दुर्गा पूजा का उद्घाटन किया है तो इसे आधिकारिक शुरुआत मानी जा रही है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर पिछले कई सालों से परंपराओं को अपमानित करने के आरोप लगते हैं।

उद्घाटन के बाद ममता ने कहा कि सुजीत बाबू से मेरा केवल एक ही अनुरोध है – ”बाबू”, सड़क जाम नहीं होनी चाहिए। एयरपोर्ट जाने का यही रास्ता है और ऐसा ना हो कि किसी की फ्लाइट छूट जाए। ममता ने कहा कि मैं पूरे हालात पर नजर रखूंगी और हर एक अपडेट लेती रहूंगी।

ममता ने सीधे तौर पर यह भी बताया है कि चेतावनी पर ध्यान नहीं देने पर सुजीत की पूजा को राज्य सरकार की विश्व बांग्ला शारद सम्मान सूची में शामिल नहीं किया जाएगा।

गौरव शर्मा सुजीत के क्षेत्र में नए पुलिस अधिकारी के रूप में कार्य में शामिल हुए हैं। ममता ने शुरूआती चरण से ही सीधे सुजीत से कहा कि अभी आपके पास गौरव शर्मा हैं। इसके बाद गौरव को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि गौरव, तुम देखोगे! आप मुझे बताएंगे कि कौन सड़क को अवरुद्ध करता है। जीवन सबके साथ चलने का नाम है। जब आप मंत्री होते हैं तो आम आदमी भी बनना पड़ता है।

यहीं नहीं रुकते हुए ममता ने कहा कि मैं हमेशा अपनी आंखें खुली रखती हूं। ऐसा मत सोचो कि मैं पूजा के दौरान छुट्टी लेती हूं। जब लोग सड़कों पर होते हैं तो मैं चौकीदार की तरह नजर रखती हूं। संयोग से, पिछले साल पूजा के दौरान, सुजीत के मंडप में इतनी भीड़ थी कि पूर्वी कोलकाता ट्रैफिक जाम में फंस गया था और कई लोगों की फ्लाइट छूट गई थी।

Check Also

27_09_2022-dead_body.jfif

बठिंडा समाचार: राजस्थान के एक व्यापारी ने बठिंडा में जहरीली दवा निगल कर की आत्महत्या

बठिंडा : राजस्थान के स्थानीय रेलवे रोड स्थित एक होटल में जहरीली दवा निगल कर आत्महत्या …