स्वस्थ और एक्टिव रहने के लिए उम्र के हिसाब से डाइट में करें ये बदलाव

बेशक उम्र सिर्फ एक संख्या है लेकिन अगर आप 60 के दशक में भी खुद को फिट और सक्रिय रखना चाहते हैं, तो अपने भोजन में पोषक तत्वों की मात्रा पर ध्यान देना जरूरी है। जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, हमारे शरीर में पोषक तत्वों की मात्रा कम होने लगती है, जिससे गठिया, हाई बीपी और अन्य स्वास्थ्य और सौंदर्य संबंधी समस्याएं होने लगती हैं।

एक बार मीठा, मसालेदार और जंक फूड का सेवन किशोरावस्था में हो सकता है लेकिन बुढ़ापे में बिल्कुल नहीं। तो आज के लेख में हम विशेषज्ञों से यह जानने जा रहे हैं कि उम्र के हिसाब से आपका आहार कैसा होना चाहिए।

युवा महिलाओं और बूढ़ों का भोजन

किशोरों को शारीरिक और मानसिक विकास के लिए अधिक पोषण की आवश्यकता होती है। ऐसे में पौष्टिकता से भरपूर आहार आपकी प्राथमिकता होनी चाहिए। इस उम्र में शरीर में आवश्यक तत्वों की कमी का सबसे बड़ा खतरा हार्मोन का असंतुलन होता है, जो शरीर के कई कार्यों के लिए जिम्मेदार होते हैं। जिससे कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं, जिनमें से पहली है अनियमित पीरियड्स के अलावा हीमोग्लोबिन की कमी आदि। इसलिए किशोर का आहार आयरन और प्रोटीन से भरपूर होना चाहिए। चीनी, नमक, जंक फूड के साथ-साथ संतृप्त और ट्रांस वसा वाले खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।

30 के दशक में महिलाओं के लिए आहार

यदि आपकी आयु 30 वर्ष से कम है, तो आपके शरीर में कैल्शियम के उच्च या निम्न स्तर को संतुलित करने का यह सही समय है। इसके लिए अपने भोजन में विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करें। यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, तो आपको अपने आहार में विटामिन सी, आयरन और लीन प्रोटीन शामिल करना चाहिए। दूसरी ओर, यदि आप गर्भावस्था की योजना बना रही हैं, तो आपको विशेष रूप से विटामिन डी, बी 12, आयरन, कैल्शियम और फोलिक एसिड से भरपूर आहार लेना चाहिए। इस उम्र में महिलाओं के लिए संतुलित और स्वस्थ आहार बहुत जरूरी है। साबुत अनाज, हरी पत्तेदार सब्जियां, दालें, समुद्री भोजन और फल खाएं। जो सेहत के साथ-साथ बढ़ती उम्र को कम करने में काफी फायदेमंद होते हैं।

40 से 50 वर्ष की आयु की महिलाओं का आहार

जो महिलाएं 40 और 50 की उम्र तक पहुंच चुकी हैं, उन्हें कैल्शियम, आयरन और एंटीऑक्सीडेंट जैसे बेरीज, कोको, ग्रीन टी से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा इस उम्र में फाइबर युक्त भोजन भी जरूरी है, जिसमें साबुत अनाज, हरी पत्तेदार सब्जियां और कई तरह के फल शामिल हैं। इस उम्र में विटामिन बी 12 की उपेक्षा न करें क्योंकि यह उचित तंत्रिका संबंधी कार्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कभी-कभी भोजन से इस विटामिन की आपूर्ति नहीं होती है, इसलिए आप इसके लिए सप्लीमेंट ले सकते हैं। इस उम्र में मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाता है और विटामिन की भी कमी हो जाती है, इसलिए आपको लो ग्लाइसेमिक, लो फैट, हाई प्रोटीन डाइट लेनी चाहिए। इसके साथ ही व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।

Check Also

526142-1349073-belly-fat-pista1

वजन घटाने के उपाय: इस सूखे मेवे को खाने से मोम की तरह पेट की चर्बी पिघलती है और याददाश्त में सुधार

वजन घटाने के लिए पिस्ता: हम सभी जानते हैं कि सूखे मेवे और नट्स खाने …