कृषक उत्पादन संगठन का गठन कर किसान को बनाये आत्मनिर्भर व स्वावलंबी: कुलपति

कानपुर,22 जून (हि.स.)। चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कानपुर के अधीन संचालित कृषि विज्ञान केंद्र दलीप नगर के वैज्ञानिकों के सहयोग से ग्राम औरंगपुर गहदेवा स्थित खेड़ाकुर्सी उत्पादन संगठन का गठन जुलाई 2021 में हुआ था।

संगठन के सचिव जितेंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि 315 क्षेत्रीय किसान संगठन से जुड़े हुए हैं तथा सात लाख 77 हजार 30 रूपये शेयर मनी एकत्रित हो चुकी है। जिसके माध्यम से एफपीओ ने फूड प्रोसेसिंग इकाई भी स्थापित कर ली है।

सचिव ने बताया कि खाद्य प्रसंस्करण इकाई के माध्यम से अब सब्जी मसालों (हल्दी, धनिया, मिर्च, गरम मसाले, रायता मसाला) इत्यादि तैयार किए जा रहे हैं। जिसकी मार्केटिंग भी की जा रही है। उन्होंने बताया कि यह मसाले पूर्णतया शुद्ध एवं जैविक है।

उन्होंने बताया कि अभी तक संगठन के लाभार्थी किसानों को 20 प्रतिशत का बोनस दिया जा चुका है। जिससे उनकी आय में बढ़ोत्तरी हो रही है। कुलपति डॉक्टर डीआर सिंह से भेंटकर एफपीओ की प्रगति की विस्तार से जानकारी दी।

कुलपति ने कहा कि एफपीओ किसानों के आर्थिक विकास और राष्ट्र निर्माण दोनों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उन्होंने कहा कि लगभग 85 प्रतिश्त किसान लघु एवं सीमांत है। इसलिए लघु व सीमांत और भूमिहीन किसान कृषि उत्पादन संगठन बनाकर अपनी आय बढ़ाएं।

कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय के समस्त कृषि विज्ञान केंद्रों द्वारा एफपीओ का गठन कराया जा रहा है। जिससे किसान आत्मनिर्भर एवं स्वावलंबी बन सकें। सचिव जितेंद्र श्रीवास्तव के सराहनीय कार्य के लिए शुभकामनाएं एवं बधाई दी। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ खलील खान मौजूद रहे।

Check Also

दुनिया का सबसे बड़ा तानपुरा पंडित लालमणि मिश्रा संग्रहालय में स्थित है

वाराणसी: क्या आप दुनिया के सबसे बड़े तानपुरा के बारे में जानते हैं? दुनिया का सबसे बड़ा …