राज्यपाल आचार्य देवव्रतजी और मुख्यमंत्री भूपेन्द्रभाई पटेल द्वारा राजभवन परिसर में महर्षि दयानंद सभा मंडप

राज्यपाल आचार्य देवव्रतजी एवं मुख्यमंत्री भूपेन्द्रभाई पटेल ने आज राजभवन परिसर में महर्षि दयानंद सभामंडप का उद्घाटन किया। देश के 77वें स्वतंत्रता दिवस की शाम दोनों गणमान्य व्यक्तियों ने राजभवन में आयोजित ‘एट होम’-स्नेहमिलन समारोह की शुरुआत में एक पट्टिका का अनावरण कर महर्षि दयानंद सभामंडप का उद्घाटन किया।

इससे पहले आज सुबह राज्यपाल आचार्य देवव्रत जी एवं लेडी गवर्नर मती दर्शना देवी जी ने महर्षि दयानंद सभामंडप में हवन किया। पवित्र हवन की पूर्णाहुति के अवसर पर राज्यपाल आचार्य देवव्रत जी ने मंगल कमल की कामना करते हुए कहा कि महर्षि दयानंद सभामंडप का उपयोग सदैव राष्ट्र निर्माण, जन कल्याण और मानवता की भलाई के लिए किया जाना चाहिए। यह सभा मण्डप राजभवन के लिए सदैव शुभ और गुजरात क्षेत्र के लिए कल्याणकारी रहेगा ऐसी मंगलकामनाओं के साथ उन्होंने पवित्र हवन का समापन किया।

गुजरात के टंकारा में जन्मे महर्षि दयानंद सरस्वतीजी ने धर्म, शिक्षा, समाज और राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। जब भारत सरकार द्वारा पूरे देश में महर्षि दयानंदजी की 200वीं जयंती मनाई जा रही है, तो गुजरात के प्रपौत्र महर्षि दयानंदजी के सम्मान में इस सभामंडप का नाम ‘महर्षि दयानंद सभामंडप’ रखा गया है।

महर्षि दयानंद सभामंडप के उद्घाटन के अवसर पर लेडी गवर्नर मति दर्शना देवीजी और मति हेतलबेन भूपेन्द्रभाई पटेल और मुख्य सचिव राजकुमार भी शामिल हुए। राज्यपाल के प्रमुख सचिव राजेश मंजू भी उपस्थित थे.