जर्मनी की एपेट्ज को हराकर क्वार्टर फाइनल में पहुंची लवलीना

टोक्यो:  टोक्यो ओलंपिक्स का आज पांचवां दिन है और भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने जीत के साथ भारत की उम्मीदों को कायम रखा है। वहीं निशानेबाजी, टेबल टेनिस, मुक्केबाजी, बैडमिंटन, सेलिंग, पुरुष स्किफ 49ईआर के मुकाबले होंगे। नेथरा कुमानन महिलाओं की लेजर-रेडियल रेस 6 में 38वें स्थान पर रहीं जबकि विष्णु सरवनन पुरुषों की रेडियल की रेस 5 (कुल मिलाकर 25वीं) में 22वें स्थान पर रहे।

 

लवलीना बोर्गोहेन ने अपने पहले ओलंपिक में अपनी पहली जीत दर्ज की, 69 किग्रा वर्ग में विभाजित निर्णय से जर्मनी की नादिन एपेट्ज़ को 3-2 से हराकर प्री-क्वार्टर में जगह बनाई। सात्विकसाईराज रंकीरेडी और चिराग शेट्टी की जोड़ी ने गल्तियों से उबरकर मंगलवार को यहां तोक्यो ओलंपिक के बैडमिंटन पुरुष युगल ग्रुप ए के अपने तीसरे मैच में बेन लेन और सीन वेंडी की ब्रिटेन की जोड़ी को सीधे गेम में हराया लेकिन इसके बावजूद नॉकआउट में जगह बनाने में नाकाम रही।

 

भारतीय निशानेबाजों के लिए बुरे दिन में दोनों टीमें क्वालीफिकेशन में खराब प्रदर्शन के बाद फाइनल से बाहर हो गई हैं। दिव्यांश पंवार और इलावेनिल वलारिवन की भारतीय टीम 626.5 के संयुक्त स्कोर के साथ 12वें स्थान पर रही जबकि दीपक कुमार और अंजुम मौदगिल की दूसरी भारतीय टीम 10 मीटर एयर राइफल मिक्स्ड टीम फर्स्ट क्वालिफिकेशन में 623.8 के संयुक्त स्कोर के साथ 18वें स्थान पर रही।
टेबल टेनिस में भारत की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है। दिग्गज खिलाड़ी शरत कमल पुरुष एकल के तीसरे दौरे के मुकाबले में चीन के मा लोंग से 1-4 से हार गए। इसी के साथ ही ओलंपिक में भारतीय अभियान समाप्त हो गया।

 

अफसोस की बात है कि चिराग शेट्टी-सात्विक आखिरी मैच खेलने से पहले ही क्वार्टरफाइनल की दौड़ से बाहर हो गए। ली/वांग जीते। और इसका मतलब है कि सात्विक-चिराग खेल के अंतर के कारण आगे नहीं बढ़ेंगे। मनु भाकर और सौरभ चौधरी क्वालीफाइंग चरण 2 में 380 के स्कोर के साथ बाहर हो गए और 10 मीटर एयर पिस्टल मिश्रित टीम स्पर्धा के पदक दौर से चूक गए। वे स्टेज 1 में दबंग लग रहे थे लेकिन दूसरे में मनु से तीन 8s उन्हें महंगा पड़ा। भारत ने 10 मीटर पिस्टल के फाइनल के लिए क्वालीफाई नहीं किया है। क्वालीफाइंग में वह सातवें स्थान पर रहे।

Check Also

आस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम ने भारत को पहले वनडे में नौ विकेट से हराया

भारतीय बल्लेबाज एक बार फिर बड़ा स्कोर बनाने में नाकाम रहीं, जबकि गेंदबाज भी प्रभाव …