Upcoming IPOs: 2023 में होंगे कमाई के जबरदस्त मौके, जानें उन 5 IPO के बारे में जिनका निवेशकों को लंबे समय से है इंतजार

एक आईपीओ शेयर बाजार में कमाई का एक बड़ा अवसर लाता है। कई स्कीम्स बहुत कम समय में अच्छी कमाई का ऑफर देती हैं। हालांकि, 2021 का अंत और 2022 का ज्यादातर समय आईपीओ के लिहाज से बहुत अच्छा नहीं रहा है । भारतीय बाजार में एलआईसी समेत ऐसी कई कंपनियों ने अपने निवेशकों को निराश किया है. कुछ कंपनियां ऐसी भी थीं जिनके आईपीओ ने उनके निवेशकों को तगड़ा रिटर्न भी दिया। अब साल करवट ले चुका है और नए साल में कई नए आईपीओ लाइन में लगे हैं। इन स्कीम्स का निवेशकों को बेसब्री से इंतजार है. इस साल 5 बड़े आईपीओ आने वाले हैं जिनका लोग काफी समय से इंतजार कर रहे थे। यह कहना मुश्किल है कि ये आईपीओ कैसा प्रदर्शन करेंगे लेकिन इनके लॉन्च से पहले इनके बारे में चर्चा से बाजार निश्चित रूप से गर्म है।

अब Oyo करेगी छंटनी, कंपनी के ढांचे में होगा बदलाव, जानें कितनी नौकरियां होंगी

ऑयो

शेयर बाजार में चल रही चर्चाओं के मुताबिक, ओयो साल के पहले महीने में ही आईपीओ लाएगी। कंपनी के कारोबार की बात करें तो कंपनी के अधीन 157,000 होटल हैं। यह 35 देशों में 40 से अधिक उत्पादों के साथ अपनी सेवाएं प्रदान करता है। कंपनी ने 2021 में आईपीओ से जुड़े दस्तावेज यानी DRHP सेबी को सौंपे हैं। इसकी योजना 2022 में आईपीओ लाने की थी। हालांकि बाजार के हालात को देखते हुए कंपनी ने तारीख आगे बढ़ा दी है।

byju के

BYJU’S ऑनलाइन के साथ-साथ ऑफलाइन कोचिंग भी प्रदान करता है। कंपनी के पास 5 करोड़ पंजीकृत छात्र हैं। तीन साल के लिए इसका सीएजीआर 21.2 फीसदी है। कंपनी ने 2021-22 में 100 अरब डॉलर का रेवेन्यू हासिल किया था। यह साल का सबसे बड़ा आईपीओ हो सकता है।

जानिए भारतीयों की फेवरेट डिश कौन सी है, स्विगी पर इसे कितने में ऑर्डर किया गयाSwiggy

फूड डिलीवरी ऐप और जोमैटो की प्रतिद्वंद्वी स्विगी भी इस साल अपना आईपीओ ला सकती है। इसका कारोबार 500 से ज्यादा शहरों में है। कंपनी से 1.50 लाख रेस्टोरेंट जुड़े हुए हैं। पिछले तीन साल में कंपनी का रेवेन्यू बढ़ा है। हालांकि, इस कंपनी ने कोई मुनाफा नहीं दिखाया है।

मामाअर्थ

मामाअर्थ के नाम से मशहूर होसाना कंज्यूमर का आईपीओ भी इसी साल आ सकता है। पिछले 3 वर्षों में कंपनी का राजस्व 105% की सीएजीआर से बढ़ा है। साल 2022 में कंपनी ने मुनाफा भी कमाया है। यह एक ब्यूटी प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी है। भारत के अलावा दक्षिण-पूर्व एशिया और खाड़ी क्षेत्रों में इसका संचालन है।

पहले जाओ

यह घरेलू एयरलाइन कंपनी इस साल अपना आईपीओ भी ला सकती है। कंपनी की इस आईपी से 3600 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। गो फर्स्ट का पुराना संस्करण गो एयर था। कंपनी के पास 57 विमान हैं। कंपनी का रेवेन्यू तो बढ़ा है लेकिन फ्यूल के दाम बढ़ने से खर्च भी बढ़ा है।

Check Also

RBI On Adani: वित्त मंत्री के बाद अब RBI ने अदानी ग्रुप विवाद पर दिया अहम बयान

RBI On Adani Group: अब भारत के सबसे बड़े बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानी आरबीआई …