प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एनसीसी कैडेटों, एनएसएस स्वयंसेवकों, आदिवासी मेहमानों और मंच कलाकारों के साथ बातचीत की। इस बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछले कुछ हफ्तों में मुझे युवाओं से मिलने का मौका मिला. युवाओं से संवाद मेरे लिए 2 कारणों से महत्वपूर्ण है, एक तो इसलिए कि युवाओं में ऊर्जा है, ताजगी है, जोश है और नवीनता है। युवाओं द्वारा फैलाई गई सारी सकारात्मकता मुझे प्रेरित करती रहती है। दूसरा, युवा देश की आकांक्षाओं और सपनों का प्रतिनिधित्व करते हैं। विकसित भारत के सबसे बड़े लाभार्थी भी युवा ही हैं। देश के निर्माण की सबसे बड़ी जिम्मेदारी भी युवाओं के कंधों पर है।

पीएम मोदी ने कहा कि NCC और NSS ऐसे संगठन हैं जो युवा पीढ़ी को राष्ट्रीय लक्ष्यों और राष्ट्रीय सरोकारों से जोड़ते हैं. एनसीसी और एनएसएस के वालंटियरों ने कोरोना काल में कैसे देश की क्षमता बढ़ाई, इसका अनुभव पूरे देश ने किया है।

उन्होंने कहा कि आज देश में युवाओं को जो नए अवसर मिल रहे हैं, वे अभूतपूर्व हैं। देश स्टार्टअप इंडिया, मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत जैसे अभियान चला रहा है। अंतरिक्ष क्षेत्र से लेकर पर्यावरण और जलवायु संबंधी चुनौतियों तक भारत आज पूरी दुनिया के भविष्य के लिए काम कर रहा है।

पीएम ने कहा कि हमारा भारत इस साल जी-20 की अध्यक्षता भी कर रहा है। भारत के लिए यह एक बड़ा अवसर है। आप भी इसके बारे में पढ़ें, स्कूल-कॉलेज में इसकी चर्चा करें। इस समय देश अपनी विरासत पर गर्व और गुलामी की मानसिकता से खुद को मुक्त करने के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है।