उप्र स्थापना दिवस : मुख्यमंत्री की राज्य को देश का ग्रोथ इंजन बनाने की अपील

लखनऊ, 24 जनवरी (हि.स.)। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ किया और प्रदेशवासियों को बधाई दी। राज्यपाल ने प्रदेश के विकास कार्यों का जिक्र करते हुए गौरवशाली इतिहास को भी याद किया। उन्होंने कहा कि सच तो यह कि अगर उत्तर प्रदेश बढ़ेगा तो भारत बढ़ेगा। इस अवसर पर खिलाड़ियों, कारीगरों, शिल्पकारों को भी पुरस्कृत किया गया।

स्थापना दिवस पर मंगलवार को अवध शिल्प ग्राम में आयोजित कार्यक्रम को मुख्यमंत्री ने संबोधित किया। उन्होंने स्थापना दिवस की बधाई देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश को देश के ग्रोथ इंजन के रूप में विकसित करना होगा। उन्होंने कहा कि यह हम सबके लिए गौरव की बात है। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की जननी भारत में जन्म लेने का सौभाग्य मिला है। भारत में जन्म लेना कठिन है और मनुष्य के रूप में जन्म लेना सौभाग्य है। उसमें उत्तर प्रदेश की धरती पर जन्म लेना अति सौभाग्य की बात है। उत्तर प्रदेश के गौरवशाली इतिहास पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश का कोई कस्बा नहीं रहा जो आजादी की लड़ाई का केंद्र न बना हो। झांसी, मेरठ, गोरखपुर, चौराचौरी, लखनऊ के काकोरी इसके प्रमाण हैं।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि 2017 में सरकार बनी तो तत्कालीन राज्यपाल रामनाईक ने स्मरण कराया कि सभी राज्य अपना स्थापना दिवस मना रहे हैं। क्या उत्तर प्रदेश भी अपना स्थापना दिवस आयोजित कर सकता है? 2018 में पहली बार स्थापना दिवस मनाया गया। उस अवसर पर ओडीओपी योजना का शुभारम्भ किया। आज इस योजना ने निर्यात को दोगुना कर दिया है। जो उप्र दंगों और अपराधों के लिए जाना जाता रहा है, वह उप्र एक्सपोर्ट का हब बन गया है।

उन्होंने कहा कि निवेश एवं रोजगार के बेहतरीन गन्तव्य के रूप में स्थापित करने की रणनीति पर आधारित थीम पर कार्य किया जाएगा। लाखों करोड़ का निवेश होने जा रहा है। हमारे युवाओं को रोजगार मिलेगा। उन्हें नौकरी के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। हमें दुनियाभर से आने वाले निवेशकों का स्वागत करना होगा। जाति, मत, मजहब के विभाजन से उप्र का बड़ा नुकसान है। विभाजनकारी ताकतों को बेनकाब करना होगा, भ्रष्टाचार पर हमला करना होगा।

फैमिली कार्ड योजना का शुभारंभ

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्यपाल के कर कमलों से फैमिली कार्ड का शुभारंभ किया गया है। इस कार्ड के माध्यम से यह पता चल सकेगा कि कौन परिवार सरकार की योजनाओं का लाभ प्राप्त कर रहे हैं और किन्हें नहीं मिल रहा है। ओडीओपी की छह लाभार्थीपरक छह आनलाइन योजनाओं का शुभारंभ हुआ है।

शिल्पकारों से लेकर खिलाड़ियों तक इस कार्यक्रम में पुरस्कृत

उत्तर प्रदेश दिवस पर एमएसएमई के छोटे-छोटे उद्यमियों, कारीगरों, शिल्पियों के साथ प्रदेश और देश का नाम रोशन करने वाले पदक विजेता खिलाड़ियों को भी पुरस्कृत किया गया। खिलाड़ियों में शूटिंग के क्षेत्र में दीपेन्द्र लक्ष्मण पुरस्कार, हॉकी के क्षेत्र में राहुल सिंह और मो. आरिफ को लक्ष्मण पुरस्कार, ज्योति शुक्ला हैण्डबाल के क्षेत्र में पदक विजेता को रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया है। कुश्ती के क्षेत्र में जनार्दन सिंह, जुडो के क्षेत्र में तरुणा शर्मा, राधेश्याम पुरस्कृत हुए हैं। आईएएस अफसर एवं जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर सुहास एलवाई को बैडमिंटन के क्षेत्र में पुरस्कार मिला है। सुहास एलवाई अर्जुन पुरस्कार से पुरस्कृत हैं।

इतनी बड़ी उपलब्धि के लिए कभी सोचा नहीं था : सुहास एलवाई

सुहास एलवाई ने कहा कि उप्र का सर्वोच्च लक्ष्मण पुरस्कार पाकर खुशी हो रही है। जनता का और मुख्यमंत्री का आभार। भगवान से प्रार्थना है कि मैं देश के लिए ऐसे ही कार्य करता रहूं। मैंने कभी बड़े सपने नहीं देखे। छोटे-छोटे सपने और एक-कदम आगे बढ़ते रहे। सिविल सेवा के साथ खेल की दुनिया में भी बड़ी उपलब्धि मिली है। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, मंत्री राकेश सचान, पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह, राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार गिरीश चंद्र यादव, मुख्य सचिव दुर्गाशंकर मिश्र, अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल, संजय प्रसाद, मुकेश मेश्राम समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Check Also

पहले सैफई में महोत्सव होता था अब हर जिले में हो रहा महोत्सव : जयवीर सिंह

फिरोजाबाद, 27 जनवरी (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री जयवीर सिंह ने शुक्रवार की देर …