लक्ष्मी नारायण योग: बुध और शुक्र राशि परिवर्तन के योग बन रहे हैं, यह योग इन 3 राशियों के भाग्य को रोशन करेगा

लक्ष्मी नारायण योग: ज्योतिष टिप्स के अनुसार नवग्रह महत्वपूर्ण है । प्रत्येक ग्रह की अपनी अनूठी विशेषताएं होती हैं। प्रत्येक ग्रह एक निश्चित अवधि के बाद अपनी राशि बदलता है। ग्रहों की इन राशियों के परिवर्तन से शुभ और अशुभ योग बनते हैं। इस प्रकार वैभव और धन का कारक माने जाने वाला शुक्र ग्रह 11 नवंबर को वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा । फिर 13 नवंबर को बुद्धि और व्यापार के अधिपति बुध (बुद्ध ग्रह) भी वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे। इससे लक्ष्मी नारायण योग बनेगा। इस योग का प्रभाव सभी राशियों पर देखने को मिलेगा। हालांकि इससे 3 राशियों को सबसे ज्यादा फायदा होगा। तो आइए जानते हैं कौन सी हैं वो 3 राशियां।

 

मकर राशि

मकर राशि के जातकों के लिए लक्ष्मी नारायण योग फायदेमंद हो सकता है। यह योग मकर राशि से एकादश भाव में बनेगा। जिसे आय और लाभ का स्थान माना जाता है। यह योग आय में वृद्धि कर सकता है। यह आय के नए स्रोत भी उत्पन्न कर सकता है। शेयर बाजार से भी आपको लाभ मिलने की संभावना है। पुराने या नए व्यवसाय में लाभ होगा। इस दौरान आर्थिक लाभ समेत आपकी कोई इच्छा पूरी हो सकती है।

 

कुंभ राशि

कुंभ राशि के जातकों को इस दौरान कई लाभ मिल सकते हैं। करियर और व्यवसाय में अच्छा पैसा कमाया जा सकता है। ग्रहों के गोचर के कारण यह लक्ष्मी नारायण योग गोचर कुंडली में दशम भाव में बन रहा है। जिसे वर्कस्पेस और जॉब लोकेशन कहा जाता है। तो बेरोजगारों को इस समय नौकरी का नया ऑफर मिल सकता है। साथ ही आप कोई वाहन या कोई अन्य सामान भी खरीद सकते हैं। साथ ही जीवन में सुख-समृद्धि आएगी। कार्यक्षेत्र में कुछ नई जिम्मेदारियां भी मिलेंगी।

तुला

यह अधिकार तुला राशि के दूसरे भाव में बन रहा है। जिसे धन और वाणी का स्थान कहा जाता है। लक्ष्मी नारायण राज योग के कारण आपको इस दौरान अचानक आर्थिक लाभ मिल सकता है। व्यापार में धन निवेश करने के लिए यह समय शुभ है। इस दौरान आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। आपकी आय के स्रोतों में अचानक वृद्धि हो सकती है। कर्ज या अटका हुआ पैसा भी मिल सकता है।

Check Also

पितृदोष क्या है, कुंडली में कैसे बनता है यह दुर्योग, जानिए कारण और उपाय

पितृ दोष: हिंदू धर्म में ज्योतिष शास्त्र का बहुत महत्व है । ग्रहों का गणित और कुंडली हमें …