बुजुर्गो को इमली खाने की सलाह क्यों दी जा रही है, जानें इसकी वजह

कोरोना वायरस से लड़ने में हमारी इम्यूनिटी यानी बीमारियों से लड़ने की ताकत मजबूत होगी, तभी इस वायरस से बच पाएंगे। खट्टी चीजों में भरपूर विटामिन ‘सी’ होता है और घर में रखी खट्टी-मीठी इमली तो सभी को पसंद है। इमली कई गुणों से भरपूर भी होती है। इसमे विटामिन ‘सी’ के अलावा विटामिन ए, कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, पोटेशियम, मैंग्नीज और फायबर जैसे कई तत्व मौजूद होते हैं, जो शरीर के लिए स्वास्थ्यवर्धक होते हैं। अक्सर बड़े बुजुर्ग भी इमली खाने की सलाह देते हैं। तो आइए जानते हैं इमली खाने के क्या-क्या फायदे होते हैं –

इमली में विटामिन ‘सी’ के अलावा यह एंटीऑक्सिडेंट तत्वों से भरपूर होती है। इमली प्रतिरक्षा प्रणाली को तो मजबूत बनाती ही है, साथ ही यह किसी भी प्रकार के संक्रमण को विकसित होने से रोकती है। एंटीसेप्टिक गुण घाव को जल्द ठीक करते हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ने में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने वाली इमली काफी मददगार साबित हो सकती है।इमली में मौजूद पॉलीफेनोल्स में एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण लिवर के लिए फायदेमंद होते हैं। इमली के बीज का अर्क पीने से लिवर की बीमारियां ठीक होती हैं। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण लिवर खराब होने से बचाते हैं। इसके सेवन से वजन भी कम होता है।

इमली में थियामिन और राइबोफ्लेविन तत्व पाया जाता है, जो सर्दी-जुकाम को ठीक करने में मदद करता है। इसके लिए एक बर्तन में एक गिलास पानी उबालें और ताजी कटी हुई आधा कप इमली की पत्तियां डालें, अब यदि चाहें तो स्वाद के लिए थोड़ा सा नींबू, थोड़ा शहद और इलाइची भी डाल सकते हैं। इस मिश्रण को पीने से खांसी, जुकाम और गले की समस्या ठीक हो जाती है। सर्दी, जुकाम और खांसी ही कोरोना वायरस के प्रमुख लक्षण हैं।इमली के एंटीऑक्सीडेंट गुण दिल के लिए फायदेमंद होते हैं। इमली में मौजूद फ्लेवोनोइड जैसे पॉलीफेनोल्स गुण दिल को सभी बीमारियों से बचाने में मदद करते हैं। इसके नियमित सेवन से कोलेस्ट्रॉल का लेवल भी नियंत्रित होता है। इमली में कुछ ऐसे यौगिक तत्व होते हैं, जो दिल की कोशिकाओं को मजबूत बनाते हैं।

इमली में विटामिन ‘ए’ भी काफी मात्रा में पाया जाता है, जो आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। विटामिन ए का अधिक सेवन करने से आंखों का कार्निया सुरक्षित रहता है। इसके अलावा यह मैक्यूलर डिजनरेशन के विकास के जोखिम को भी कम करने में सहायक होता है। इमली के रस में पाए जाने वाले कई पोषक तत्व आंखों में होने वाले संक्रमण से बचाने में भी मदद करते हैं।इमली में फाइबर भी भरपूर होता है, जिससे पाचन तंत्र ठीक होता है। यदि रोज एक इमली का सेवन किया जाए तो पाचन तंत्र मजबूत होगा और पेट की छोटी व बड़ी दोनों आंतें साफ रहेंगी। साथ ही इससे कब्ज, अपच, गैस, एसिडिटी जैसी पेट से संबंधित बीमारियां भी नहीं होगी।

Check Also

हाथ को सैनिटाइजर करने के बाद, कभी न करे ऐसी गलती

सैनिटाइजर का इस्तेमाल कोरोना वायरस से बचने के लिए किया जा रहा है। हाथों को …