जानिए क्या है एलर्जी के कारण और इससे बचने के आसान तरीके

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों की जीवन शैली में जितना अधिक बदलाव आया है, लोगों को उतनी ही छोटी-बड़ी बीमारियों का खतरा भी बढ़ गया है। एक तो लोगों का खान-पान, दूसरा बाहरी धूल मिट्टी, धुएं से प्रदूषित जहरीला वातावरण जो हमारे जीवन की सभी गतिविधियों को प्रभावित कर रहा है जिससे शरीर में बीमारियों ने अपनी एक खास जगह बना ली है।
# मौसमी एलर्जी: बदलते मौसम में जिन चीजों से आप ज्यादा प्रभावित होते है उससे आपकी एलर्जी बढ़ जाती है। गर्म, शुष्क और हवा वाला मौसम वायुजनित पराग कणों और एलर्जी के लक्षणों को बढ़ा सकता है।
# बारहमासी एलर्जी: पूरे साल एलर्जी से पीड़ित रहते हैं, तो इसका कारण धूल मिट्टी और घर या ऑफिस का प्रदूषित वातावरण हो सकता है। सफाई ना होने से डस्ट की परत जम जाती है जो एलर्जी का कारण बनती है।
# पालतू जानवरों से एलर्जी: एलर्जी के बने रहने का कारण घर के पालतू जानवर बिल्ली और कुत्ते से भी खतरा बढ़ जाता है। जब जानवर अपने आपको चाटते हैं तो उनकी लार में मौजूद प्रोटीन भी फर से चिपक जाता है।
एलर्जी से बचने के उपाय:
# आपको जिन खाने वाली चीजों से एलर्जी है उन्हें न खाएं।
# एकदम गरम से ठंडे और ठंडे से गरम वातावरण में ना जाएं।
# बाहर निकलते समय मुंह और नाक पर रुमाल बांधे, आँखों पर धूप का अच्छी क़्वालिटी का चश्मा लगायें।
# घर पर कपड़े या बेड सीट, रजाई, गद्दे, तकिये के कवर एवं आदि को समय समय पर गरम पानी से धोते रहें।
# हमेशा रजाई, गद्दे, कम्बल आदि को समय समय पर धूप दिखाते रहें।
# जिन पौधों के पराग कणों से एलर्जी है उनसे दूर रहें।
# घर में मकड़ी वगैरह के जाले ना लगने दें समय समय पर साफ सफाई करते रहें।
# धूल मिट्टी से बचें, धूल मिट्टी भरे वातावरण में काम करना ही पड़ जाये तो फेस मास्क पहन कर काम करें।

Check Also

कोरोना : कोविड से लड़ने के लिए रोजाना जरूर करें ये 5 काम, अभी पढ़ें

दुनिया भर में कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। एक तरफ जहां कोविड …