अल्जाइमर दिवस 2022: … ‘अल्जाइमर दिवस’ के रूप में मनाया गया; इतिहास और महत्व जानें

9668fdf48444b2a1bd80d3f4207769d5_original

अल्जाइमर दिवस 2022: 21 सितंबर को विश्व अल्जाइमर दिवस के रूप में जाना जाता है। विश्व अल्जाइमर दिवस 2022 हर साल 21 सितंबर को बीमारी के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। अल्जाइमर बुढ़ापे की दुर्बल करने वाली बीमारी है। इस रोग में रोगी की सोचने समझने की क्षमता समाप्त हो जाती है और व्यक्ति स्वयं पर ध्यान नहीं दे पाता है। एलोइस अल्जाइमर नाम के एक जर्मन डॉक्टर ने 1906 में इस बीमारी की खोज की थी। 

वर्षों से, अल्जाइमर एक आम बीमारी के रूप में उभरा है। अल्जाइमर एक मस्तिष्क रोग है जो व्यक्ति के मस्तिष्क को कमजोर करता है और स्मृति को प्रभावित करता है। पहले यह रोग ज्यादातर बुजुर्गों में देखा जाता था। लेकिन, तनाव और डिप्रेशन की वजह से युवा भी इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। जागरूकता की कमी भी अल्जाइमर के बढ़ने का एक कारण है। अल्जाइमर्स डे पर लोगों को इस बीमारी के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में जागरूक किया जाता है। 

विश्व अल्जाइमर दिवस क्यों मनाते हैं?

विश्व अल्जाइमर दिवस हर साल 21 सितंबर को मनाया जाता है। अल्जाइमर एक मानसिक बीमारी है जिसे लोग गंभीरता से नहीं लेते हैं। ज्यादातर लोगों का मानना ​​है कि उम्र के साथ याददाश्त कम होना सामान्य है। यही कारण है कि ज्यादातर लोग बिना इलाज के कई तरह के व्यक्तित्व विकारों का सामना कर रहे हैं। भारत ही नहीं दूसरे देशों में भी लोग इस बीमारी को नजरअंदाज कर रहे हैं। लोगों की इस मानसिकता को बदलने के उद्देश्य से हर साल अल्जाइमर्स डे मनाया जाता है। इसके माध्यम से विश्व स्तर पर लोगों को अल्जाइमर के मुख्य लक्षणों, कारणों और उपचार के बारे में जानकारी दी जाती है।

 

विश्व अल्जाइमर दिवस का इतिहास क्या है?

विश्व अल्जाइमर दिवस 2012 से हर साल दुनिया भर में मनाया जाता है। अल्जाइमर का पहली बार इलाज 1901 में एक जर्मन महिला पर किया गया था। इस बीमारी पर डॉ. जर्मन मनोचिकित्सक। एलोइस अल्जाइमर द्वारा इलाज किया गया। उन्हीं के नाम पर इस बीमारी का नाम ‘अल्जाइमर’ रखा गया। 21 सितंबर, 1994 को जब अल्जाइमर रोग ने अपनी 10वीं वर्षगांठ मनाई, तो यह घोषणा की गई कि यह दिवस हर साल विश्व स्तर पर मनाया जाएगा। तब से हर देश में कई जागरूकता अभियान और कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। अल्जाइमर रोग दुनिया भर में मौत का छठा प्रमुख कारण है। इसलिए इस बीमारी पर गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत है। 

Check Also

527093-shooting-at-child-daycare-center-in-thailand-kills-at-least-34-including-children

थाईलैंड में अंधाधुंध स्कूल गोलीबारी; बच्चों समेत 34 लोगों की मौत

थाईलैंड शूटिंग: थाईलैंड के उत्तरपूर्वी प्रांत में हुई गोलीबारी में 34 लोगों के मारे जाने की …