शहद और दालचीनी के फायदे जानें शहद और दालचीनी के 10 जबरदस्त फायदे…

शहद और दालचीनी दोनों ही आयुर्वेद और घरेलू उपचार की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हैं। दोनों के फायदे जानकर आपको जानकर हैरानी होगी कि आपने अक्सर घर के मसालों में से दालचीनी का इस्तेमाल किया है। लेकिन यह आपकी सभी बीमारियों को ठीक करने में सक्षम है और अगर दालचीनी में शहद भी मिला दिया जाए तो क्या होगा? 

अगर आप अभी भी इसके गुणों से अनजान हैं तो दालचीनी और शहद के इन अनमोल गुणों और इसके 10 फायदों के बारे में जरूर पढ़ें।

1 कैंसर दालचीनी का उपयोग कैंसर जैसी बीमारियों को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। वैज्ञानिकों ने दालचीनी और शहद को गैस्ट्रिक कैंसर और हड्डियों के विकास के मामलों में फायदेमंद पाया है। इसके लिए एक महीने तक गर्म पानी में दालचीनी पाउडर और शहद मिलाकर पीने से बहुत फायदा होता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है ताकि शरीर बीमारियों से लड़ सके।

2 कार्डियोवैस्कुलर दालचीनी हृदय को स्वस्थ रखने और हृदय रोग को नियंत्रित करने में सहायक है, क्योंकि यह हृदय की धमनियों में कोलेस्ट्रॉल से रक्षा करती है। रोजाना गर्म पानी के साथ शहद और दालचीनी का सेवन करें। आप रोटी के साथ दालचीनी और शहद का मिश्रण भी खा सकते हैं। इसके अलावा आप चाय में दालचीनी भी ले सकते हैं। इसके सेवन से हार्ट अटैक का खतरा कम होता है।

3 मोटापा मोटापा के लिए दालचीनी का सेवन एक चिकित्सीय उपाय है। यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल को कम करता है जिससे मोटापा नहीं बढ़ता है। इसके लिए दालचीनी की चाय बहुत उपयोगी होती है।एक गिलास पानी में एक चम्मच दालचीनी पाउडर डालकर उबाल लें और गैस बंद कर दें। इसके बाद इसमें दो चम्मच शहद मिलाकर नाश्ते से आधा घंटा पहले पिएं। रात को सोने से पहले भी इसका सेवन करना दोगुना फायदेमंद होता है और अतिरिक्त चर्बी धीरे-धीरे खत्म हो जाती है।

4 जोड़ों का दर्द अगर आपको जोड़ों का दर्द है तो इसे दूर करने के लिए दालचीनी का इस्तेमाल करें। इसके लिए रोजाना गर्म पानी में दालचीनी का सेवन करना फायदेमंद होता है।इसके अलावा इस गर्म पानी से मालिश करने से जोड़ों के दर्द से राहत मिलती है।इस पानी को एक हफ्ते में पीने से गठिया के दर्द से राहत मिलती है। और लोग एक महीने से चल भी नहीं पा रहे हैं। वह चलने में भी सक्षम है। गठिया के दर्द में भी दालचीनी बहुत फायदेमंद होती है।

5 सर्दी खांसी दालचीनी सर्दी, खांसी या गले में खराश के लिए बहुत कारगर दवा का काम करती है। इसे एक चुटकी शहद के साथ मिलाकर खाने से सर्दी-जुकाम में आराम मिलता है। आप दालचीनी के पाउडर को गर्म या गुनगुने पानी में शहद के साथ मिला सकते हैं। काली मिर्च के साथ दालचीनी का चूर्ण लेने से आराम मिलता है। इससे पुरानी खांसी भी दूर होगी।

6 अपच, गैस, पेट दर्द और एसिडिटी होने पर दालचीनी का चूर्ण लेने से आराम मिलता है। यह उल्टी और दस्त से भी राहत देता है और पाचन में सुधार करता है। पेट के अल्सर को ठीक करने के लिए शहद और दालचीनी पाउडर के मिश्रण का उपयोग किया जाता है। ए

7 दालचीनी का सिरदर्द ठंडी हवा या ठंड के कारण होता है। गर्मी के कारण होने वाले सिर दर्द में पीसी को मिश्री में मिश्री और चावल के पानी में मिलाकर सूंघने से सिर दर्द में आराम मिलता है। इसके अलावा दालचीनी के तेल में तिल के तेल की कुछ बूंदे मिलाकर सिर पर मालिश करने से भी सिर दर्द कम होता है। दालचीनी को पानी में घिसकर गर्म पेस्ट लगाने से भी आराम मिलता है। शहद और दालचीनी के नियमित सेवन से तनाव तो दूर होता ही है साथ ही याददाश्त भी बढ़ती है।

8 सौंदर्य दालचीनी त्वचा और बालों की सुंदरता में किसी से पीछे नहीं है। यह न सिर्फ त्वचा में निखार लाता है बल्कि झुर्रियों को भी कम करता है। नींबू के रस में दालचीनी पाउडर मिलाकर लगाने से मुंहासे और ब्लैकहेड्स दूर होते हैं। नींबू के रस में दो चम्मच जैतून का तेल, एक कप चीनी, आधा कप दूध, दो चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर पांच मिनट के लिए शरीर पर लगाएं। इसके बाद त्वचा फूल जाएगी। रात को सोते समय शहद और दालचीनी का पेस्ट चेहरे पर लगाएं और सुबह गर्म पानी से धो लें, इससे चेहरे में चमक आती है। गंजेपन या बालों के झड़ने के लिए गर्म जैतून के तेल में एक चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर स्कैल्प पर लगाएं और 15 मिनट बाद धो लें।

9 दालचीनी का तेल दर्द, घाव और सूजन को दूर करने के लिए दालचीनी के तेल का उपयोग किया जाता है। यह खुजली वाली त्वचा से भी छुटकारा दिलाता है, दांत दर्द से राहत देता है। दालचीनी को मुंह में रखकर चूसने से सांसों की दुर्गंध दूर होती है।

कान के 10 रोग – दालचीनी और शहद का मिश्रण खाने से भी कान के रोग और बहरापन दूर होता है। दालचीनी के तेल की कुछ बूंदे कान में डालने से लाभ होता है। यह अस्थमा और लकवा के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है।

Check Also

आपने मालथी के फायदों के बारे में तो सुना होगा लेकिन क्या आप जानते हैं इसके नुकसान के बारे में

मालती को अंग्रेजी में लीकोरिस कहा जाता है। यह एक झाड़ीदार पेड़ है जो अंदर से …