काम की बात : जानें किस राशन कार्ड पर कितना मिलता है अनाज

नई दिल्‍ली :राज्‍य और केंद्र सरकारें गरीबों और जरूरतमंदों को बेहद मामूली कीमत पर जरूरी अनाज मुहैया कराती हैं. लाभार्थियों की पहचान के लिए अलग-अलग राशन कार्ड भी जारी किए जाते हैं. हर राशन पर मिलने वाले अनाज की मात्रा भी तय रहती है.

कोरोना महामारी के दौर में वैसे तो मोदी सरकार सरकार ने 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज बांटने का ऐलान किया था, जिसका लाभ मार्च, 2022 तक दिया जाना है. इसके अलावा भी विभिन्‍न योजनाओं के तहत राशन बांटे जाते हैं. हालांकि, इसमें मुफ्त राशन तो नहीं मिलता है लेकिन बाजार भाव से बेहद कम कीमत पर जरूरतमंदों को अनाज मुहैया कराया जाता है. हम आपको बता रहे हैं कि किस राशन कार्ड पर किसे और कितना अनाज दिया जाता है.

 

अंत्‍योदय अन्‍न योजना राशन कार्ड
इस योजना के लाभार्थियों को हर महीने प्रति परिवार 35 किलो राशन मिलता है, जिसमें 20 किलो गेहूं और 15 किलो चावल शामिल है। लाभार्थी 2 रुपये प्रति किलोग्राम के भाव से गेहूं और 3 रुपये किलो के भाव से चावल खरीद सकते हैं. यह कार्ड केंद्र सरकार द्वारा उन भारतीय नागरिकों को दिया जाता है, जो गृहस्थी श्रेणी से बाहर हों अर्थात बहुत ही गरीब श्रेणी में आते हैं। इस कार्ड मे अन्य कार्डो की तुलना मे ज्यादा राशन मिलता है.

बीपीएल राशन कार्ड
सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत Below Poverty Line (BPL) राशन कार्ड जारी किए जाते हैं। इस राशन कार्ड पर 10 से 20 किलोग्राम राशन प्रतिमाह प्रति परिवार दिया जाता है। राशन की ये मात्रा हर राज्‍य में अलग हो सकती है। साथ ही अनाज की कीमत भी राज्य सरकारों पर निर्भर करती है। हालांकि, यह बाजार भाव से कई गुना कम रहेगी.

 

एपीएल राशन कार्ड
गरीबी रेखा से ऊपर रहने वाले लोगों को Above Poverty Line (APL) राशन कार्ड जारी किए जाते हैं. एपीएल राशन कार्ड पर हर महीने 10 से 20 किलोग्राम राशन प्रति परिवार दिया जाता है. राशन की कीमत राज्य सरकारें तय करती है, इसलिए यह अलग अलग राज्यों में बदल सकती है.

प्राथमिकता राशन कार्ड
राष्‍ट्रीय खाद्य सुरक्षा एक्‍ट (NFSA)के तहत प्राथमिक राशन कार्ड (PHH) जारी किए जाते हैं. राज्य सरकारें लक्षित सार्वजनिक वितरण प्रणाली (टीपीडीएस) के तहत प्राथमिकता वाले घरेलू परिवारों की पहचान करती हैं। प्राथमिकता राशन कार्ड पर हर महीने 5 किलो राशन प्रति व्‍यक्ति मिलता है। इसमें चावल 3 रुपये प्रति किलो और गेहूं 2 रुपये प्रति किलो के भाव दिया जाता है.

 

अन्‍नपूर्णा राशन कार्ड
अन्‍नपूर्णा योजना के तहत ये राशन कार्ड मिलते हैं, जो गरीबों और 65 साल से ऊपर के बुजुर्ग को दिया जाता है. इस पर हर महीने 10 किलो राशन मिल सकता है। राज्य सरकारें ये कार्ड उन वृद्ध लोगों को जारी करती हैं, जो उनके तय मानक में आते हैं. राज्‍य के अनुसार अनाज की मात्रा और कीमत अलग हो सकती है.

Check Also

खाद्य तेल की कीमतें बढ़ाने के लिए एक्शन मोड में केंद्र सरकार; स्टॉकिस्टों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई

मुंबई: खाद्य तेल: आम आदमी को महंगाई से निजात दिलाने के लिए सरकार लगातार कोशिश कर …