J&K में चल रही राजनीतिक प्रक्रिया में NSA डोभाल भी शामिल

नई दिल्ली/जम्मू : जम्मू-कश्मीर में इन दिनों एक बार फिर से हलचल मची हुई है। 24 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में होने वाली बैठक के लिए जम्मू-कश्मीर के 14 नेताओं को आमंत्रित किया गया है जिसमें तत्कालीन राज्य के चार पूर्व मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। वहीं इन दिनों जम्मू-कश्मीर में जो राजनीतिक हलचल हो रही है उस पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की पैनी नजर है। बताया जा रहा है कि अजीत डोभाल राजनीतिक प्रक्रिया में पर्दे के पीछे रहकर काम कर रहे हैं। राज्य की जमीनी स्थिति जानने के लिए डोभाल विभिन्न स्तरों पर कनिष्ठ स्तर के नेतृत्व के साथ बैठकें क रहे हैं।

 

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की गत शुक्रवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ एक बैठक हुई थी, इसमें अजीत डोभाल भी मौजूद रहे। कहा जा रहा है कि इसी मीटिंग के बाद सर्वदलीय बैठक बुलाए जाने का फैसला हुआ। बता दें कि जम्मू-कश्मीर में जब अनुच्छेद 370 के निरस्त किया गया तब वहां की सुरक्षा स्थिति को संभालने में डोभाल ने अहम भूमिका निभाई थी।

 

वहीं पीएम मोदी के साथ 24 जून को हो रही बैठक में आमंत्रितों में चार पूर्व मुख्यमंत्री – नेशनल कांफ्रेंस के फारुक अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती शामिल हैं। तत्कालीन राज्य के चार पूर्व उपमुख्यमंत्रियों – कांग्रेस नेता तारा चंद, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के नेता मुजफ्फर हुसैन बेग और भाजपा नेताओं निर्मल सिंह और कवींद्र गुप्ता को भी बैठक में आमंत्रित किया गया है। इसके अलावा, माकपा नेता मोहम्मद यूसुफ तारिगामी, जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी (जेकेएपी) प्रमुख अल्ताफ बुखारी, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के सज्जाद लोन, जम्मू कश्मीर कांग्रेस प्रमुख जी ए मीर, भाजपा के रवींद्र रैना और पैंथर्स पार्टी के नेता भीम सिंह को भी बैठक के लिए आमंत्रित किया गया है।

Check Also

कोरोना में अनाथ हुए बच्चों का मोदी सरकार कराएगी 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा

नई दिल्ली : केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार अभिनव पहल करते हुए कोरोना से अनाथ …