वैश्विक मसलों पर भारत से रिश्ते और मजबूत करने की जापानी प्रधानमंत्री ने इच्छा जताई

japan1_997

टोक्यो, 27 सितंबर (हि.स.)। जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा तमाम वैश्विक मसलों पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ काम जारी रखना चाहते हैं। जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे के अंतिम संस्कार के लिए जापान पहुंचे भारतीय प्रधानमंत्री से बातचीत के दौरान जापानी प्रधानमंत्री ने भारत के साथ रिश्तों को और मजबूत करने की बात कही।

भारतीय प्रधानमंत्री मोदी जापान की संक्षिप्त यात्रा समाप्त कर भारत लौट गए हैं। पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे के राजकीय अंतिम संस्कार में भाग लेने जापान पहुंचे मोदी ने अपने जापानी समकक्ष किशिदा से बातचीत की। इसके बाद जापानी प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया कि किशिदा ने पूर्व प्रधानमंत्री आबे की राजनयिक विरासत को आगे बढ़ाते हुए स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत निर्माण के लिए प्रधानमंत्री मोदी के साथ काम करना जारी रखने का इरादा जताया। उन्होंने कहा कि यह वर्ष भारत और जापान के राजनयिक संबंधों की 70वीं वर्षगांठ होने के कारण महत्वपूर्ण है। अगला वर्ष जापान और भारत जी-7 व जी-20 समूहों की अध्यक्षता के साथ दोनों देशों के लिए रिश्तों की मजबूती का अवसर प्रदान करेगा।

इधर, भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे की विरासत प्रधानमंत्री मोदी और किशिदा की प्रतिबद्धता भारत-जापान साझेदारी को नई ऊंचाइयों तक ले जाएगी। दोनों नेताओं ने यूक्रेन की स्थिति सहित क्षेत्रीय स्थिति पर भी बातचीत की। उन्होंने विवादों के शांतिपूर्ण समाधान के महत्व पर जोर देते हुए गरीब देशों के सतत विकास के लिए चीन की ऋण-जाल कूटनीति को लेकर चिंता जाहिर की। द्विपक्षीय बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने भारत-जापान साझेदारी को मजबूत करने के साथ-साथ एक स्वतंत्र, खुले और समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र के दृष्टिकोण की अवधारणा में आबे के योगदान को याद किया।

Check Also

कोरोना वायरस मैन मेड; वुहान लैब के पूर्व वैज्ञानिक का चौंकाने वाला खुलासा

वुहान लैब: पिछले दो साल से दुनिया को संकट में डालने वाले कोविड-19 का प्रकोप एक …