उभरते बाजारों में, जापानी भारतीय इक्विटी में सबसे अधिक निवेश करते

मुंबई: भारत के आर्थिक विकास के साथ-साथ इक्विटी बाजार में तेजी के माहौल को देखते हुए विकासशील देशों में जापानी खुदरा निवेशक भारतीय इक्विटी के प्रति सबसे अधिक आकर्षण दिखा रहे हैं। 14 उभरते बाजारों में जापानियों का सबसे ज्यादा निवेश भारतीय इक्विटीज में देखने को मिल रहा है।

प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, जापान में सक्रिय भारत-केंद्रित निवेश ट्रस्टों की प्रबंधनाधीन संपत्ति जनवरी में 11 प्रतिशत बढ़कर 1.60 अरब डॉलर तक पहुंच गई। जापानी इक्विटी केंद्रित फंडों में शुद्ध प्रवाह शून्य रहा है। 

एक रिसर्च फर्म की रिपोर्ट के मुताबिक, अन्य विकासशील देशों की तुलना में 2023 में भारत की स्टॉक होल्डिंग्स में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी हुई है। 2023 में भारतीय शेयरों में कुल जापानी हिस्सेदारी बढ़कर 2868.50 बिलियन येन हो गई। जो 2022 में 2053.30 बिलियन येन था।

आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले साल 14 उभरते बाजारों में जापानी निवेशकों की चीनी इक्विटी में हिस्सेदारी गिर गई। चीनी इक्विटी में जापानी हिस्सेदारी पिछले साल 427.50 बिलियन येन घटकर 805.80 बिलियन येन हो गई। 

चीन के मुकाबले भारत की मजबूत आर्थिक विकास दर के कारण निवेशकों की नजर भारतीय बाजार पर है।