जयपुर न्यूट्रीफेस्ट: मोटे अनाज व पौष्टिक आहार के फायदे व भविष्य पर हुई चर्चा

जयपुर, 3 फ़रवरी (हि.स.)। हेल्दी और ट्रेडिशनल फूड की ओर अग्रसर होने और इनोवेटिव स्टार्टअप को बढ़ावा देने के उद्देश्य से आयोजित हो रहे जयपुर न्यूट्रीफेस्ट (फूड फेस्टिवल एंड नेचुरल प्रोडक्ट एक्सपो) में शहरवासियों का रुझान देखते ही बनता है। इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर लाइफ साइंसेज, राजस्थान विश्वविद्यालय के ईसीएच इन्क्यूबेशन सेंटर द्वारा आयोजित फेस्ट का शनिवार को चौथा दिन रहा।

पोस्टर मेकिंग कॉम्पिटिशन में बच्चों ने पौष्टिक आहार के महत्व को दर्शाया तो लोक नृत्य की प्रस्तुतियों ने सभी का मन मोहा। न्यूट्री टॉक सेशन में टाई (दी इंडस एंटरप्रेन्योर्स) की प्रदेशाध्यक्ष डॉ. शीनू झंवर, उद्योगपति राज बागड़ी, कानोडिया कॉलेज की प्राचार्य प्रो. सीमा अग्रवाल, कृषि विशेषज्ञ प्रतीक तिवाड़ी ने मोटे अनाज व पौष्टिक आहार के फायदे और भविष्य, टेरेस फार्मिंग, अर्बन फार्मिंग जैसे विषयों पर प्रकाश डाला। इस दौरान न्यूट्रीफेस्ट की संयोजक प्रीति पारीक, सह संयोजक भावना रौत और ईसीएच कॉर्डिनेटर प्रो. सुमिता कच्छावा व मेले में पहुंचे लोगों ने इसमें हिस्सा लिया। भावना रौत ने बताया कि न्यूट्रीफेस्ट शहरवासियों में आहार को लेकर जागरूकता पैदा कर रहा है। यहां फूड व अन्य सेक्टर में हुए इनोवेटिव स्टार्टअप और फूड प्रोडक्टस की स्टॉल्स के साथ-साथ हस्तशिल्प उत्पादों और पेंटिंग्स की स्टॉल्स को भी जगह दी गयी है जिन्हें कला प्रेमी काफी पसंद कर रहे हैं। कलात्मक गतिविधियों में युवाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा रहा है। मेले में जारी लोक कला प्रस्तुति से आगंतुकों का मनोरंजन हो रहा है।