धनु राशि वालों के लिए है खास कर्क राशि वालों पर शुरू होगा ढैय्या इस साल शनि का गोचर है खास

नई दिल्ली: शनि देव इस वक्त मकर राशि में हैं. जिसकी वजह से मकर राशि के लोगों पर शनि साढ़ेसाती का दूसरा चरण चल रहा है. जबकि कुंभ राशि के जातकों पर पहला और धनु राशि पर तीसरा चरण चल रहा है. शनि देव 29 अप्रैल को फिर से राशि बदलेंगे. इस दौरान शनि देव कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे. शनि के इस परिवर्तन से कुछ राशियों की मुश्किलें बढ़ेंगी. जानके हैं शनि के राशि परिवर्तन से किन राशि वालों की मुश्किलें बढ़ने वाली है.

कुंभ राशि की बढ़ेगी मुश्किल

शनि की साढ़ेसाती के तीन चरण माने गए हैं. जो कि ढाई-ढाई साल के होते हैं. ऐसे में शनि की साढेसाती का असर पूरे साढे सात साल तक रहता है. वहीं इन तीनों चरणों में परेशानियां अलग-अलग होती हैं. साढ़ेसाती के पहले चरण में मानसिक परेशानी, दूसरे चरण में शारीरिक कष्ट और तीसरे चरण में आर्थिक परेशानियां होती हैं. हालांकि तीसरे चरण में शनि के कष्ट होने लगती है. शनि के मकर से कुंभ में जाते ही कुंभ राशि पर साढ़ेसाती का दूसरा चरण शुरू हो जाएगा. जिस कारण इस राशि के लोगों को कई तरह की मुश्किलों से गुजरना पड़ेगा.

धनु जातकों को लाभ

शनि के राशि बदलने के साथ ही मीन राशि वालों पर साढ़ेसाती की पहला चरण शुरू होगा. जबकि मकर राशि वालों पर शनि साढ़ेसाती का आखिरी चरण रहेगा. वहीं धनु जातकों को शनि-साढ़ेसाती से मुक्ति मिल जाएगी. जाते-जाते शनि इस राशि वालों को लाभ देकर जाएंगे.

इन राशियों पर शुरू होगी ढैय्या

ढैय्या ढाई साल की होती है. 29 अप्रैल को शनि के राशि परिवर्तन के बाद कर्क और वृश्चिक राशियों पर शनि की ढैय्या शुरू हो जाएगी. जबकि मिथुन और तुला राशि के जातकों को शनि की ढैय्या से छुटकारा मिल जाएगा.

Check Also

Mata-Chadraghanta-puja (1)

नवरात्रि 2022 तीसरा दिन: नवरात्रि के तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा की पूजा करें, किंवदंती

नवरात्रि 2022 तीसरा दिन: शारदीय नवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है (शारदीय नवरात्रि 2022) । इस अवधि …