भारत और चीन से कनाडा की सुरक्षा को ख़तरा: ख़ुफ़िया रिपोर्ट

भारत और कनाडा के रिश्तों में कड़वाहट खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. कनाडा ने एक बार फिर दोनों देशों के बीच चल रहे तनाव में जहर घोल दिया है। अपनी धरती पर खालिस्तान आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारत की भूमिका के बेबुनियाद आरोपों के महीनों बाद, कनाडा नए सिरे से भारत को बदनाम करने के लिए आगे बढ़ा है।

अब कनाडा ने भारत को विदेशी खतरा बताते हुए कहा है कि नई दिल्ली संभावित रूप से कनाडा के चुनावों में हस्तक्षेप कर सकता है। ग्लोबल न्यूज द्वारा दी गई एक रिपोर्ट के मुताबिक, कनाडा की सुरक्षा सेवा की एक गोपनीय रिपोर्ट में यह आरोप लगाया गया है. कनाडा के इस नए आरोप पर भारत सरकार ने अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. पिछले साल सितंबर में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कनाडा की संसद में आरोप लगाया था कि खालिस्तान आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारत की भूमिका के पुख्ता सबूत हैं. लेकिन जब भारत ने कनाडा से वो सबूत मांगे तो कनाडा कतराने लगा. भारत ने उस समय कनाडा के सभी आरोपों को खारिज कर दिया था। इस प्रकरण के बाद दोनों देशों के रिश्तों में तनाव आना शुरू हो गया. अब कनाडा की सुरक्षा एजेंसी ने चुनाव में संभावित हस्तक्षेप का आरोप लगाया है.

   ग्लोबल न्यूज़ के मुताबिक, ‘विदेशी हस्तक्षेप और चुनाव: एक राष्ट्रीय सुरक्षा समीक्षा’ शीर्षक से एक गोपनीय रिपोर्ट अक्टूबर 2022 में जारी की गई थी। उस रिपोर्ट में भारत को ख़तरा बताया गया था. रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि विदेशी हस्तक्षेप कनाडा के लोकतंत्र को कमजोर कर सकता है। विदेशी हस्तक्षेप पारंपरिक कूटनीतिक नीति से इस मायने में भिन्न है कि यह सार्वजनिक कथाओं और नीति निर्धारण को प्रभावित करने के लिए गोपनीयता और धोखे का उपयोग करता है।