Infosys बनी 5 लाख करोड़ M-Cap वाली 5वीं कंपनी, शेयर में है कमाई का मौका

इन्फोसिस (Infosys) के शेयरों में आज 15 अक्टूबर को बड़ी तेजी देखी गई। इसके बाद इन्फोसिस 5 लाख करोड़ के मार्केट कैप वाली पांचवीं कंपनी बन गई है। इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के नतीजे के बाद आज इन्फोसिस का शेयर अपने रिकॉर्ड हाई पर पहुंच गया। इसका शेयर करीब 3 फीसदी की मजबूती के साथ 1186 रुपए के भाव पर पहुंच गया। इसके पहले बुधवार को शेयर 1137 रुपए पर बंद हुआ था। शेयर के रिकॉर्ड हाई पर पहुंचने के साथ ही इन्फोसिस का मार्केट कैप 5 लाख करोड़ के पार चला गया। इन्फोसिस शेयर बाजार की ऐसी 5वीं कंपनी है, जिसका मार्केट कैप 5 लाख करोड़ के पार पहुंचा है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि शेयर में आगे भी तेजी जारी रहेगी।

5 लाख करोड़ मार्केट कैप वाली पांचवीं कंपनी
इन्फोसिस आज शेयर बाजार में लिस्ट होने वाली कंपनियों में पांचवीं कंपनी बन गई, जिसका मार्केट कैप 5 लाख करोड़ को पार कर चुका है। इन्फोसिस के शेयर में इस साल अब तक करीब 61 फीसदी की तेजी आ चुकी है। वहीं, मार्च के लो से इसका भाव दोगुने से भी ज्यादा हो गया है। बाजार में अभी आरआईएल (RIL) 15.5 लाख करोड़ मार्केट कैप के साथ टॉप पर है। इसके बाद टीसीएस (TCS) और एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) हैं, जिनका मार्केट कैप 10.4 लाख करोड़ और 6.62 लाख करोड़ है।

इन्फोसिस के नतीजे
इन्फोसिस का मुनाफा सालाना आधार पर करीब 21 फीसदी बढ़कर 4845 करोड़ रुपए रहा है। वहीं, रेवेन्यू सालाना आधार पर 8.6 फीसदी बढ़कर 24,570 करोड़ रुपए रहा। इन्फोसिस ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए कांस्टेंट करंसी में रेवेन्यू ग्रोथ गाइडेंस 2-3 फीसदी तक रिवाइज्ड किया है। यह पहले 0-2 फीसदी था। पूरे साल के ऑपरेटिंग मार्जिन गाइडेंस भी 21-24 फीसदी के मुकाबले 23-24 फीसदी तक बढ़ा है।

बड़ी डील हासिल की
दूसरी तिमाही में इन्फोसिस ने 315 करोड़ की नई डील हालिस की है। इन्फोसिस ने इस दौरान 100 मिलियन डॉलर बैंड में 5 नए क्लाइंट जोड़े हैं। इस कैटेगरी में अब इसके 30 क्लाइंट हो गए हैं। कंपनी ने 10 मिलियन डॉलर कैटे​गरी में 6 नए क्लाइंट जोड़े हैं और 1 मिलियन डॉलर में कुल 16 नए क्लाइंट जोड़े हैं। कुल एक्टिव क्लाइंट की संख्या बढ़कर सितंबर अंत तक 1,487 हो गई है। जून में इसके कुल क्लाइंट 1,458  थे।

Check Also

अब एक्सक्लूसिव QR Code नहीं, किसी भी ऐप से कर सकते हैं पेमेंट- RBI ने जारी किया निर्देश

पेटीएम, फोन पे, गूगल पे, अमेजन पे और दूसरे पेमेंट सिस्टम ऑपरेटर्स को अब सिर्फ …