वित्त वर्ष 2023 में भारतीय अर्थव्यवस्था 6.5 प्रतिशत के बजाय 6.9 प्रतिशत बढ़ेगी: विश्व बैंक

मुंबई: भारत की अर्थव्यवस्था वैश्विक झटकों के खिलाफ मजबूत लचीलापन दिखा रही है, यह कहते हुए विश्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष यानी 2022-23 के लिए भारत की आर्थिक विकास दर के अपने अनुमान को बढ़ाकर 6.90 प्रतिशत कर दिया है. 

इससे पहले अक्टूबर में विश्व बैंक ने अनुमान को 7.50 से घटाकर 6.50 कर दिया था, जिसे अब संशोधित कर 6.90 कर दिया गया है। 

भारत की अर्थव्यवस्था वैश्विक झटकों को अच्छी तरह से पचा रही है और सितंबर तिमाही के उसके आर्थिक आंकड़े भी उम्मीद से बेहतर आए हैं।विश्व बैंक ने अपने इंडिया डेवलपमेंट अपडेट में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के अनुमान में बढ़ोतरी की है। सितंबर तिमाही 6.30 फीसदी रही है। वित्त वर्ष 2021-22 में भारत की आर्थिक विकास दर 8.70 फीसदी रही। 

हालांकि अमेरिका, यूरो और चीन की घटनाओं से भारत प्रभावित हुआ है। विश्व बैंक ने भी उम्मीद जताई है कि भारत सरकार चालू वित्त वर्ष में जीडीपी के 6.40 फीसदी के राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को हासिल कर लेगी.

चालू वित्त वर्ष के लिए महंगाई दर भी 7.10 फीसदी रहने का अनुमान है। भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की तीन दिवसीय बैठक बुधवार को समाप्त हो रही है, बाजार भारत की जीडीपी के लिए समिति के अनुमानों पर नजर गड़ाए हुए हैं।

गौरतलब है कि उच्च मुद्रास्फीति और कमजोर रुपये को देखते हुए एसएंडपी, आईएमएफ सहित कई संगठनों ने भारत की जीडीपी के लिए अपने अनुमान घटा दिए हैं। 

उल्लेखनीय है कि भारत नवंबर माह में विनिर्माण गतिविधि के मामले में दुनिया में शीर्ष स्थान पर रहा है। नवंबर के लिए मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) 55.70 रहा। 

Check Also

Travel: IRCTC ने किया वैलेंटाइन डे स्पेशल टूर का ऐलान, बेहद सस्ते में कर सकेंगे थाईलैंड का सफर!

वैलेंटाइन डे मनाने की चाहत रखने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। आईआरसीटीसी टूरिज्म ने …