आईसीसी अंडर-19 विश्व कप सेमीफाइनल: मेजबान दक्षिण अफ्रीका की कठिन चुनौती के लिए तैयार भारत

नई दिल्ली, 5 फ़रवरी (हि.स.)। भारतीय क्रिकेट टीम बेनोनी में मंगलवार को आईसीसी अंडर-19 पुरुष क्रिकेट विश्व कप 2024 के पहले सेमीफाइनल में मेजबान दक्षिण अफ्रीका का सामना करेगी।

भारत अब तक पूरे टूर्नामेंट में एक ताकत रहा है, टीम ने न केवल अपने प्रत्येक पांच मैच जीते हैं, बल्कि पांच में तीन मैच 200 से अधिक रनों के अंतर से जीता है।

भारत को बल्ले और गेंद दोनों से लगातार योगदान देने वाले खिलाड़ी मिले हैं, लेकिन यह उनकी बल्लेबाजी क्षमता ही है जो टूर्नामेंट में सबसे अलग रही है। उल्लेखनीय रूप से, टूर्नामेंट में अब तक पांच अलग-अलग खिलाड़ियों ने शतक बनाए हैं।

सौम्या पांडे के शानदार चार विकेट की बदौलत भारत ने बांग्लादेश पर 84 रन की शानदार जीत के साथ टूर्नामेंट की शुरुआत की।

आयरलैंड के खिलाफ अगले मैच में, मुशीर खान के शतक ने भारत को 300 रन के आंकड़े से आगे बढ़ाया, इसके बाद नमन तिवारी ने 4 विकेट लेकर भारत की 201 रन की शानदार जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

भारतीय टीम ने इसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका के खिलाफ एक बार फिर 300 रन का आंकड़ा पार किया, इस बार सलामी बल्लेबाज अर्शिन कुलकर्णी ने शतक लगाया, इसके बाद एक बार फिर नमन ने चार विकेट लिए और भारत ने मैच एक बार फिर 200 के अंतर से मैच जीता।

इसके बाद सुपर सिक्स चरण शुरू हुआ, और न्यूजीलैंड के खिलाफ, मुशीर खान ने टूर्नामेंट में अपने दूसरे शतक के साथ अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया और कीवी टीम के सामने 296 का लक्ष्य रखा। सौम्य पांडे के चार विकेटों की बदौलत भारतीय टीम ने ब्लैककैप्स को सिर्फ 81 रन पर सिमेट दिया और एक बार फिर 200 से ज्यादा रनों से जीत दर्ज की।.

कप्तान उदय सहारन और सचिन धस के शतकों की बदौलत भारत ने नेपाल के खिलाफ अपने अंतिम सुपर सिक्स मैच में 5 विकेट पर 297 रनों का स्कोर खड़ा किया। पांडे की बाएं हाथ की स्पिन ने एक बार फिर कहर बरपाया, जिससे भारत ने 131 रन से जीत हासिल कर सेमीफाइनल का टिकट पक्का कर लिया।

हालाँकि, भारतीय टीम को अभी तक दक्षिण अफ्रीका के स्तर के गेंदबाजी आक्रमण का सामना नहीं करना पड़ा है, जिसका नेतृत्व टूर्नामेंट के शीर्ष विकेट लेने वाले क्वेना मफाका कर रहे हैं। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ने आसानी से विरोधी बल्लेबाजी लाइनअप को ध्वस्त कर दिया है और अब तक तीन बार पांच विकेट लेने का कारनामा किया है।

दक्षिण अफ्रीका के सलामी बल्लेबाजों, स्टीव स्टोक और लुआन-ड्रे प्रिटोरियस ने असाधारण फॉर्म का प्रदर्शन किया है और बल्लेबाजी में दक्षिण अफ्रीकी टीम की कमान संभाली है।

दक्षिण अफ्रीका टूर्नामेंट में केवल एक बार ग्रुप चरण में इंग्लैंड के खिलाफ लड़खड़ाया है। लेकिन मेजबान टीम ने उसके बाद प्रमुख जीत के साथ अपनी टीम को गति दी है – उनके मुख्य आकर्षण में स्कॉटलैंड के खिलाफ 27 ओवरों में जीत के लिए 273 रनों के लक्ष्य को सफलतापूर्व हासिल करना शामिल है।

दोनों देशों की संभावित टीमें इस प्रकार हैं-:

भारत: आदर्श सिंह, अर्शिन कुलकर्णी, मुशीर खान, उदय सहारन (कप्तान), प्रियांशु मोलिया, सचिन धस, अरावेली अवनीश (विकेटकीपर), मुरुगन अभिषेक, नमन तिवारी, राज लिम्बानी, सौम्य पांडे।

दक्षिण अफ्रीका: लुआन-ड्रे प्रीटोरियस (विकेटकीपर), स्टीव स्टोक, डेविड टीगर, रिचर्ड सेलेट्सवेन, दीवान मराइस, रोमाशैन पिल्ले, जुआन जेम्स (कप्तान), रिले नॉर्टन, ट्रिस्टन लुस, नकोबानी मोकोएना, क्वेना मफाका।