भारत और अमेरिका ने अफगानिस्तान में आए भूकंप पर दुख जताया

अमेरिका ने अफगानिस्तान में आए भूकंप पर संवेदना व्यक्त की है। संयुक्त राज्य अमेरिका अफगान लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है, “बुधवार को व्हाइट हाउस द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुलिवन ने कहा कि अफगानिस्तान में विनाशकारी भूकंप में कम से कम 1,000 लोगों की मौत से अमेरिका बहुत दुखी है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति जो बाइडेन स्थिति की निगरानी कर रहे हैं।

बयान के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका को अफगानिस्तान को मानवीय सहायता का सबसे बड़ा दाता होने पर गर्व है। हमारे सहयोगी पहले से ही अफगानिस्तान में चिकित्सा देखभाल और अन्य कार्य प्रदान कर रहे हैं। इस भीषण त्रासदी के दौरान अमेरिका अफगानिस्तान के लोगों के साथ है। बता दें, अफगानिस्तान के दक्षिणपूर्वी हिस्से में खोस्त शहर के पास बुधवार तड़के भूकंप आया। सबसे बुरी तरह प्रभावित क्षेत्र खोस्त प्रांत के स्पेरा जिले और पक्तिका प्रांत के बरमाला, जिरुक, नाका और गया जिले हैं।

 

 

भारत ने की मदद

बता दें, अफगानिस्तान में आई प्राकृतिक आपदा पर भारत और पाकिस्तान ने भी दुख जताया है. भारत ने भी मदद की पेशकश की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, “भारत भूकंप से प्रभावित लोगों, पीड़ितों और उनके परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता है। हम अफगानिस्तान के लोगों की पीड़ा में भागीदार हैं। हम इस जरूरत की घड़ी में उनकी मदद के लिए तैयार हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बुधवार को शोक व्यक्त किया और कहा कि भारत हर संभव आपदा राहत सामग्री जल्द से जल्द उपलब्ध कराने के लिए तैयार है।

संयुक्त राष्ट्र ने भी जताई चिंता

वहीं, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने भी अफगानिस्तान में विनाशकारी भूकंप से हुई दुखद मौत पर शोक व्यक्त किया है। बुधवार को उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से संकट का सामना कर रहे परिवारों की मदद करने के लिए एकजुटता दिखाने का आह्वान किया।

Check Also

भारत द्वारा हाल ही में ट्विटर अकाउंट को ब्लॉक किए जाने के खिलाफ पाकिस्तान ने दर्ज कराया विरोध

पाकिस्तान ने विभिन्न देशों में पाकिस्तानी राजनयिक मिशनों के हैंडल सहित अपने कई आधिकारिक ट्विटर …