IND vs SA: विराट कोहली की सलाह कर गई काम, ऋषभ पंत ने 3 दिन बाद ही ठोकी फिफ्टी

नई दिल्ली. ऋषभ पंत (Rishabh Pant) रंग में लौट आए हैं. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन टेस्ट के तीसरे दिन उन्होंने महज 58 गेंद में 50 रन ठोक डाले. पंत ने यह पारी तब खेली, जब दिन के पहले दो ओवर में ही भारत ने चेतेश्वर पुजारा (9) और अजिंक्य रहाणे (1) का विकेट गंवा दिया था. भारत पर जल्दी आउट होने का खतरा मंडरा रहा था. लेकिन पंत ने कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर ना सिर्फ भारत को संकट से उबारा, बल्कि एक्सप्रेस ट्रेन की रफ्तार से रन बनाए. इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि उन्होंने सिर्फ 58 गेंद में अपने 50 रन पूरे कर लिए.

लंच से पहले जहां विराट कोहली समेत बाकी बल्लेबाजों ने 96 गेंद खेलकर 22 रन बनाए. वहीं, अकेले पंत ने 60 गेंद में 51 रन कूट डाले. उन्होंने 85 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए. पंत और विराट के बीच लंच तक पांचवें विकेट के लिए 147 गेंद में 72 रन की साझेदारी हुई.

ऋषभ पंत जोहानिसबर्ग में हुए दूसरे टेस्ट की दूसरी पारी में हवा में एक लापरवाही भरा शॉट खेलकर शून्य पर आउट हो गए थे. पंत इस टेस्ट के तीसरे दिन जब बल्लेबाजी के लिए उतरे तो भारत 163 रन पर 4 विकेट गंवा चुका था. चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे पवेलियन लौट चुके थे और भारत को एक छोटी सी पार्टनरशिप की दरकार थी. लेकिन उन्होंने कैगिसो रबाडा की गेंद पर बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में अपना विकेट गंवा दिया था और भारत को हार के रूप में इसका खामियाजा उठाना पड़ा. इसके बाद गौतम गंभीर और सुनील गावस्कर ने भी पंत को काफी फटकार लगाई थी.

विराट ने पंत को दी थी नसीहत
केपटाउन टेस्ट से एक दिन पहले हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी पंत के इस शॉट को लेकर कोहली से सवाल पूछा गया था. तब उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की एक नसीहत का जिक्र किया था. जो माही ने विराट को करियर के शुरुआत में दी थी. तब विराट ने कहा था, “महेंद्र सिंह धोनी ने मेरे करियर की शुरुआत में मुझे बहुत अच्छी सलाह दी थी. आपकी पहली और दूसरी गलती के बीच कम से कम सात से आठ महीने का अंतर होना चाहिए और उसके बाद ही आप अपने टेस्ट करियर को लंबा खींच सकते हैं. मैंने तब तय कर दिया था कि मैं गलती नहीं दोहराऊंगा. ऐसा तब होता है जब आप अपनी गलतियों पर विचार करते हैं, जो मुझे पता है कि ऋषभ भी करता है. मुझे उम्मीद है कि वो सुधार करते रहेंगे.”

 

कप्तान कोहली की यही बात पंत के लिए काम कर गई और उन्होंने केपटाउन में अपनी बल्लेबाजी का अंदाज तो नहीं बदला. लेकिन किस गेंद पर बड़ा शॉट लगाना है. उसे भांपते हुए बल्लेबाजी की. नतीजा यह रहा कि उन्होंने 5 पारियों के बाद फिफ्टी जड़ी.

पंत-कोहली के बीच दूसरी अर्धशतकीय साझेदारी
ऋषभ पंत ने कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर मैच में इस टेस्ट की चौथी 50+ रन की साझेदारी की. पहली पारी में भी दोनों के बीच 113 गेंद में 51 रन की पार्टनरशिप हुई थी. जब तक यह दोनों क्रीज पर रहेंगे, टीम इंडिया की जीत की उम्मीद बनी रहेगी. क्योंकि केपटाउन में चौथी पारी में सिर्फ 3 बार ही 200 से ज्यादा रन का पीछा करते हुए कोई टीम जीती है.

Check Also

ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज बोलैंड को काउंटी टीम से खेलने के लिए मिल रहे कॉल

मेलबर्न :  एशेज में अपने शानदार प्रदर्शन के बाद ऑस्ट्रेलिया के 32 वर्षीय तेज गेंदबाज …