IND vs SA: टीम इंडिया को साउथ अफ्रीका में फिर मिली नाकामी, केपटाउन टेस्ट के साथ सीरीज भी गंवाई

साउथ अफ्रीका (South Africa) को उसके ही घर में टेस्ट सीरीज में हराने का भारतीय टीम (Indian Cricket Team) का सपना एक बार फिर पूरा नहीं हो पाया. 2018 की तरह एक बार फिर टीम इंडिया की खराब बैटिंग ने इतिहास रचने का मौका छीन लिया. केपटाउन (Cape Town Test) में खेले गए टेस्ट सीरीज के तीसरे और आखिरी मैच में मेजबान साउथ अफ्रीका ने भारत को 7 विकेट से हराकर सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली. मैच के चौथे दिन साउथ अफ्रीका को जीत के लिए 111 रनों की और जरूरत थी, जबकि भारत को 8 विकेट हासिल करने थे, लेकिन कीगन पीटरसन और रासी वैन डर डुसैं की पारियों के दम पर साउथ अफ्रीका ने बिना किसी खास परेशानी के ये लक्ष्य हासिल कर लिया.

 

विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम 2018 के बाद दूसरी बार साउथ अफ्रीका के दौरे पर गई थी और इस बार टीम को ऐतिहासिक सीरीज जीत का दावेदार माना जा रहा था. साउथ अफ्रीकी टीम एबी डिविलियर्स, फाफ डुप्लेसी और हाशिम अमला जैसे दिग्गज बल्लेबाजों के संन्यास के कारण ज्यादा मजबूत नहीं लग रही थी, जबकि धुरंधर विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डिकॉक ने भी पहले टेस्ट के बाद संन्यास लेकर चौंका दिया था. वहीं तूफानी तेज गेंदबाज एनरिक नॉर्खिया चोट के कारण सीरीज से बाहर थे. ऐसे में भारतीय टीम की जीत आसान समझी जा रही थी, लेकिन तीन हफ्तों में ही सारी अटकलें और दावे ध्वस्त हो गए.

टीम इंडिया को चाहिए थे 8 विकेट

मैच के तीसरे दिन भारत की बल्लेबाजी फिर खराब रही थी और सिर्फ ऋषभ पंत के जबरदस्त शतक के दम पर टीम इंडिया 198 रन ही बना सकी थी और साउथ अफ्रीका के सामने 212 रनों का मामूली लक्ष्य रखा था. साउथ अफ्रीका ने तीसरे दिन 2 विकेट खोकर ही 101 रन बनाकर जीत की बुनियाद रख दी थी. ऐसे में चौथे दिन भारत को गेंद से करिश्मे की जरूरत थी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

पीटरसन फिर रहे साउथ अफ्रीका के स्टार

मैच की पहली पारी की तरह एक बार फिर साउथ अफ्रीका के लिए नए बल्लेबाज के तौर पर उभरे कीगन पीटरसन ने बेहतरीन पारी खेली. पीटरसन ने तीसरे दिन ही 48 रन बना लिए थे और चौथे दिन के पहले सेशन में तेजी से बल्लेबाजी करते हुए मैच में अपना दूसरा और सीरीज में तीसरा अर्धशतक जमाया. पीटरसन ने रासी वैन डर डुसैं के साथ भी 54 रनों की साझेदारी की.हालांकि, भारत के पास एक अच्छा मौका पहले सेशन की शुरुआत में ही आ गया था, लेकिन जसप्रीत बुमराह की गेंद पर चेतेश्वर पुजारा ने स्लिप में आए कीगन पीटरसन के आसान कैच को टपका दिया.

शार्दुल ठाकुर ने पीटरसन का विकेट हासिल कर उन्हें एक यादगार शतक से रोक दिया. पहली पारी में 72 रन बनाने वाले पीटरसन ने अपना सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाते हुए 113 गेंदों में 82 रन बनाए.

बावुमा-वैन डर डुसैं का आखिरी हमला

पीटरसन का विकेट गिरने के बाद भारतीय टीम को उम्मीद की किरण दिखी थी, लेकिन रासी वैन डर डुसैं और टेंबा बावुमा ने लंच के बाद बेहतरीन साझेदारी करते हुए उसे भी बुझा दिया. दोनों ने चौथे विकेट के लिए 57 रनों की बेहतरीन नाबाद साझेदारी की. बावुमा ने अश्विन की गेंद पर स्लॉग स्वीप खेलकर चौका जमाते हुए टीम को 7 विकेट से यादगार जीत दिला दी. बावुमा 32 और वैन डर डुसैं 41 रन बनाकर नाबाद लौटे.

Check Also

jhulan3_710x400xt

झूलन गोस्वामी पर ममता बनर्जी का इमोशनल ट्वीट, कहा- कई लड़कियां उन्हें फॉलो करती

 मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने देश की सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेटरों में से एक को उनकी विदाई …