आयकर नोटिस: करदाताओं के लिए बड़ा अपडेट! टैक्स कटने के बाद भी मिल सकता है नोटिस, जानें क्या है वजह

आयकर विभाग की ओर से करदाताओं के लिए एक नया अपडेट सामने आया है। अपडेट में बताया जा रहा है कि आने वाले दिनों में विभाग की ओर से जल्द ही कई आयकरदाताओं को नोटिस भेजा जा सकता है. एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक आयकर विभाग ने नोटिस भेजने की तैयारी कर ली है.

सीबीडीटी चेयरमैन ने यह बात कही

ईटी की रिपोर्ट के मुताबिक, विभाग उन करदाताओं को भी नोटिस भेज सकता है जिनका टैक्स पहले ही काटा जा चुका है. रिपोर्ट में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के चेयरमैन नितिन गुप्ता के हवाले से कहा गया है कि आयकर विभाग टैक्स संबंधी विवादों को कम करने की कोशिश कर रहा है। फिलहाल सिर्फ उन्हीं करदाताओं को इनकम टैक्स का नोटिस मिलने वाला है, जिनके बारे में विभाग के पास कोई पुख्ता जानकारी है.

बजट में टैक्स विवादों पर ऐलान

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसी महीने 1 फरवरी को पेश बजट के दौरान टैक्स विवादों को कम करने के लिए एक नई पहल की घोषणा की थी. उन्होंने कहा था कि वित्तीय वर्ष 2009-10 तक का 25 हजार रुपये तक का बकाया टैक्स डिमांड रद्द कर दिया जायेगा. इसी तरह 2010-11 से 2014-15 की अवधि के दौरान 10,000 रुपये तक के कर बकाया के मामलों का भी निपटारा किया जाएगा. उन्होंने कहा था कि इससे करीब एक करोड़ करदाताओं को फायदा हो सकता है.

कर्नाटक में विशेष केंद्र बनाया गया है

आयकर विभाग ने कर विवादों के लिए कर्नाटक के मैसूर में एक डिमांड प्रबंधन केंद्र स्थापित किया है। सीबीडीटी चेयरमैन का कहना है कि पहले मैसूर स्थित केंद्र सिर्फ कर्नाटक के मामले देख रहा था, लेकिन अब केंद्र पूरे देश के मामले देख रहा है. यह केंद्र 1 करोड़ रुपये से अधिक के कर विवाद मामलों को देखता है।

उन्हें नोटिस मिलने वाला है

आयकर विभाग की ताजा तैयारी में उन करदाताओं को नोटिस मिलने जा रहा है, जिनका टीडीएस यानी टैक्स डिडक्टेड एट सोर्स कट चुका है, लेकिन आईटीआर दाखिल नहीं किया है. आकलन वर्ष 2023-24 के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने की समय सीमा समाप्त हो गई है। आईटीआर दाखिल करने की समय सीमा 31 जुलाई 2023 तक थी। उसके बाद विलंबित आईटीआर भरने का समय 31 दिसंबर 2023 तक था।