इतिहास के पन्नों मेंः 13 नवंबर

चीन के हमले पर तिब्बत ने उठाई थी आवाजः साल 1950 में चीन ने तिब्बत पर कब्जा करने के इरादे से हजारों हथियारबंद सैनिकों को वहां भेजा। इन सैनिकों ने तिब्बत की जमीन पर चीन का झंडा लहरा कर इसके कुछ हिस्से को स्वायत्तशासी इलाके में बदल दिया। तिब्बत के बाकी हिस्से को चीन के प्रांतों में मिला दिया। चीन के इस संगठित कब्जे के खिलाफ तिब्बत ने 13 नवंबर 1950 को संयुक्त राष्ट्र में अपील की।

दरअसल, तिब्बत पर चीन का कब्जा 1949 में ही हो चुका था। यहां चीन की सैना तैनात कर दी गई और तिब्बत को दुनिया से पूरी तरह काट दिया गया। तिब्बत की भाषा, संस्कृति और धर्म को निशाना बनाकर उसका चीनीकरण शुरू कर दिया। तिब्बत पर चीन की इस बर्बर कार्रवाई के दौर में 1959 में तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा को बड़ी संख्या में तिब्बती नागरिकों के साथ भारत में शरण लेनी पड़ी।

अन्य अहम घटनाएंः

1780ः पंजाब के शासक महाराजा रणजीत सिंह का जन्म।

1898ः काली पूजा के मौके पर पूज्य माता श्री शारदा देवी ने निवेदिता के विद्यालय का उद्घाटन किया।

1917ः प्रगतिशील कवि मुक्तिबोध गजानन माधव का जन्म।

1918ः ऑस्ट्रिया गणराज्य बना।

1968ः पाकिस्तान में जुल्फिकार अली भुट्टो को गिरफ्तार किया गया।

1975ः विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा की।

1967ः फिल्म अभिनेत्री मीनाक्षी शेषाद्रि का जन्म।

1968ः फिल्म अभिनेत्री जूही चावला का जन्म।

1998ः चीन के एतराज के बावजूद तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन से मिले।

Check Also

चित्रपट झारखंड के एक दिवसीय फिल्म निर्माण कार्यशाला का पोस्टर रिलीज

गुमला, 8 दिसंबर (हि.स.)। चित्रपट झारखंड के तत्वावधान में 18 दिसंबर को प्रस्तावित एक दिवसीय …